Optical Sensor Technology

Optical Sensor Technology Kya Hai ? और कहा इस्तेमाल की जाती है

Spread the love

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम देखने वाले है Optical Sensor Technology Kya Hai ? और कहा इस्तेमाल की जाती है. आपने कई बार यह जानने की कोशिश की होगी की आखिर यह Optical Sensor technology होती क्या है. अगर आपको यह जवाब नहीं मिला हो तो इस आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़े. ताकि आप अच्छे से समज सको की Optical Sensor technology क्या है और इसे कोनसी कोनसी चीजों में इस्तेमाल किया जाता है !

दोस्तों आपने कई सारे सेंसर देखे होंगे जो की अलग अलग प्रकार से काम करते है. और उन्हें अलग अलग चीजों में इस्तेमाल किया जाता है. और भी नए नए सेंसर बनाने के कार्य शुरू ही रहते है. आज की युग में देखा जाये तो लगभग हर चीज में सेंसर का उपयोग किया जाता है इससे इंसानो के काम अधिक आसान हो जाते है. उसमे से ही एक है Optical Sensor technology इस सेंसर की मदत से काफी काम आसान हो गए है. आज के इस आर्टिकल में हम इसी विषय पर चर्चा करने वाले है तो चलिए देखते है आखिर यह टेक्नोलॉजी है क्या और किन चीजों में इसका इस्तेमाल किया जाता है !

OPTICAL SENSOR TECHNOLOGY क्या है ?

OPTICAL SENSOR TECHNOLOGY एक ऑटोमैटिक सेंसर टेक्नोलॉजी है. जिसे की विभिन्न प्रकार की चीजों में इस्तेमाल कीया जाता है. जैसे की आधार कार्ड मशीन , सेटेलाइट , ऐरोप्लेने इस तरह की चीजों में ऑप्टिकल सेंसर टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जाता है !

ऑप्टिकल सेंसर के कार्य भी अलग अलग प्रकार के होते है मतलब टेक्नोलॉजी वही होती है सिर्फ उसके काम करने के तरीके अलग अलग होते है !

> नैनो सेल टेक्नोलॉजी क्या है ? नैनो सेल टेक्नोलॉजी के फायदे

Optical sensing और optical communication में, photo optics technologies का इस्तेमाल near infrared region में होता है जो source of signal के लिए काम करता है. Optical wireless communication भी short range applications के लिए IR data transmission का इस्तेमाल करता है !

OPTICAL SENSOR TECHNOLOGY किस तरह से काम करती है

दोस्तों वैसे तो आपने ऑप्टिकल सेंसर टेक्नोलॉजी को कई चीजों में इस्तेमाल किया हुवा देखा होगा उसमेसे ही एक है माउस जिसे हम ऑप्टिकल माउस भी कहते है. हम उसी के जरिये समझते है की OPTICAL SENSOR TECHNOLOGY किस तरह से काम करती है यही टेक्नोलॉजी हर जगह पर इस्तेमाल की जाती है सिर्फ उसके काम करने का तरीका अलग होता है. तो चलिए माउस से समझते है की OPTICAL SENSOR TECHNOLOGY किस तरह से काम करती है !

दोस्तों अगर आप ऑप्टिकल माउस खोलकर देखते है तो आपको बिच में एक ic दिखाई देगा जिसे लाइट डिटेक्टिंग चीफ या सीमॉस ic भी बोला जाता है. इसके आलावा पीछे की तरफ एक लाइट लगी हुई रहती है जो की LED लाइट होती है तो चलिए इसको डिटेल में समझते है सबसे पहले बात करते है सीमॉस की !

सीमॉस में ऊपर की तरफ एक ic होता है इसके आलावा निचे की तरफ आपको एक होल नजर आएगा इसमें दूसरी एक चीज होती है जिसे हम प्रिजम या लेंस बोल सकते है. लेंस में ऊपर की तरफ एक मैग्नेटिक ग्लास लगी होती है और वह प्रिजम या लेंस ic के बाजु में लगाया जाता है. और इस के निचे जो होल होता है वह प्रकाश अंदर खींचने का कार्य करता है !

अब जब माउस में लगा LED लाइट जब ऑन होता है अब लाइट की किरने लेंस के जरिये याने की प्रिजम के जरिये निचे परावर्तित होती है वह किरने ग्राउंड सरफेस पर आती है और ग्राउंड सरफेस पर लगे हुए लेंस के जरिये वह किरने सेंसर ic के अंदर आते है और बाद में हमारा सेंसर उसे सेंसराइज करके आगे पीछे जैसे मूवमेंट होती है उस हिसाब से वह सेंसर मूवमेंट करवाता है !

तो दोस्तों इस तरह से OPTICAL SENSOR TECHNOLOGY काम करती है इसके कार्य करने का तरीका एक है लेकिन यह टेक्नोलॉजी अलग अलग प्रकार प्रकार के वस्तुवो में अलग अलग प्रकार के कार्य करती है अब देखते है इसका इस्तेमाल किन चीजों में किया जाता है !

OPTICAL SENSOR TECHNOLOGY किन चीजों में इस्तेमाल होती है

दोस्तों अगर देखा जाये तो काफी सारे इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों में OPTICAL SENSOR TECHNOLOGY का उपयोग किया जाता है. लेकिन हम कुछ चुनिंदा उपकरण देखंगे जिसमे की OPTICAL SENSOR TECHNOLOGY का उपयोग किया गया हो !

1) फिंगर प्रिंट मशीन – आपने कई जगह पर फिंगर प्रिंट मशीन तो देखा ही होगा जैसे की आधार कार्ड बनाते समय. आप अगर आधार कार्ड बनाने जाते है तो वहा पर आपके फिंगर प्रिंट लिए जाते है. तो उस मशीन में OPTICAL SENSOR TECHNOLOGY का उपयोग किया गया होता है इसी लिए वह मशीन आपके फिंगर प्रिंट स्कैन कर पाता है. अगर दूसरा उदाहरण देखा जाये तो सिमकार्ड का अगर आप सिमकार्ड खरीदने जाते है तो वहा पर भी आपको अपने अंघूठे का प्रिंट देना होता है. उस मशीन में भी OPTICAL SENSOR TECHNOLOGY का उपयोग किया गया होता है !

2) सॅटेलाइट – आपको सॅटेलाइट तो पाता ही होंगे जो की अपने पृथ्वी के बहार होते है तो सॅटेलाइट में पृथ्वी के निचे का अटमॉसपियर मापने के लिए या पृथ्वी का जीपीएस मापने के लिए OPTICAL SENSOR TECHNOLOGY का उपयोग किया जाता है. इसके आलावा अगर दो सॅटेलाइट आपस में कम्युनिकेशन करना चाहते है तो वह भी इसी सेंसर के द्वारा किया जाता है !

3) एरोप्लेन – एरोप्लेन कितनी ऊंचाई पर है , उसके आगे या पीछे कोई एरोप्लेन है की नहीं यह सब चीजे जानने के लिए भी OPTICAL SENSOR TECHNOLOGY का ही उपयोग किया जाता है. अगर प्लेन ज्यादा ही निचे आ जाता है तो वह सेंसर ऑटोमैटिकली पायलेट को सूचित कर देता है की प्लेन बहुत ही निचे आ चूका है. इस तरह से यह टेक्नोलॉजी एरोप्लेन में भी इस्तेमाल की जाती है !

4) फाइटर जेट – फायर फाइटर जेट में जो निचे बॉम लगे हुए होते है अगर कभी युद्ध होता है और वह बॉम छोड़ने की जरुरत पड़ती है तो उन बॉम को सटीक निशाने तक पहुंचाने के लिए OPTICAL SENSOR TECHNOLOGY का इस्तेमाल किया जाता है. जिससे की बॉम एकदम सटीक निशाने पर पहुँच जाता है !

5) कार – दोस्तों यह टेक्नोलॉजी कार में भी इस्तेमाल की जाती है जब हम कार रिवर्स लेते है अगर पीछे कोई दिवार हो या पेड़ हो अगर हमारी कार उसके ज्यादा करीब पहुँच जाती है तो यह सेंसर ऑटोमैटिकली हमें सेन्स करके बताता है की कार किसी चीज के काफी करीब पहुँच चुकी है. यह टेक्नोलॉजी कुछ कार में पहले से ही आती तो कुछ कार में लगानी पड़ती है !

तो दोस्तों ऐसी कई सारी चीजों में OPTICAL SENSOR TECHNOLOGY का उपयोग किया जाता है जिससे की लोगो को काफी मदत होती है !

अंतिम शब्द

तो दोस्तों यह था Optical Sensor Technology Kya Hai ? और कहा इस्तेमाल की जाती है. उम्मीद आप इस टेक्नोलॉजी के बारे में समज गए होंगे अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा हो तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर कीजिये ताकि वह भी इस टेक्नोलॉजी के बारे में जान सके. अगर आपको इस आर्टिकल से जुडी कोई भी समस्या हो तो आप हमें कमेंट करके पूछ सकते है धन्यवाद !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *