200+ Short Stories in Hindi with Moral for Kids

Short Stories in Hindi with Moral: अगर आप इंटरनेट पर अपने बच्चों के लिए शॉर्ट मोरल स्टोरी (हिंदी बोध कथा सिख के साथ) ढूंढ रहे है तो आप बिलकुल ठीक स्थान पर आये हो ,यहाँ पर आपको top 10 moral stories हिंदी में मिलने वाली है। इसके साथ-साथ स्टोरी के संग उससे मिलने वाली सिख भी मिलने वाली है।

भारत की प्रसिद्ध Top 10 moral stories को hindi में हमने यहाँ पर आपके सामने रखा है जिससे आपको और आपके बच्चों को अच्छी सिख मिले और वह जीवन में अच्छे संस्कार के साथ आगे बढ़ सके। इसके साथ-साथ आपको पंचतंत्र की कहानियाँ भी हिंदी में मिलने वाली है। स्कूल के छात्र जो की class 1 से लेकर class 10 तक पढ़ते हो उन्हें उनके शैक्षणिक कार्यकाल में Hindi story writing और Hindi reading stories का भाग होता है। अगर आप विद्यार्थी है तो भी यहाँ पर आपको उपयोगी हिंदी शॉर्ट स्टोरी सिख के साथ मिलने वाली है।

यहाँ पर केवल आपको टेक्स्ट फॉर्मेट में ही हिंदी स्टोरी नहीं मिलेगी उसके साथ ही आपको hindi short stories with pictures and moral भी मिलने वाली है जिससे की आपको और अधिक समझने में आसानी और मजा आने वाला है।

Short Story in Hindi With Moral For Kids

तो बिना देरी किये अब हम देखते है Hindi short stories with moral for Kids 2022 जो की आपको जीवन में अच्छी सिख देने वाली है। इसमें कुछ स्टोरी 10 लाइन की भी होने वाली है। तो हम अब एक-एक करके सभी शॉर्ट स्टोरीज को देखते है, तो चलो हिंदी शॉर्ट स्टोरी के दुनिया में।

1. समझदार भालू : Short Hindi Story with Moral

 Short Hindi Story with Moral

एक शिकारी शिकार करने गया था। उसके कंधे पर एक बड़ी भरी हुई बंदूक और एक कारतूस का पट्टा था। सामने ऊँचे-ऊँचे पहाड़ दूर-दूर तक फैले हुए थे। पहाड़ों में एक हजार फीट गहरी खाई थी। घाटी के उस पार एक छोटा सा फुटपाथ था जो दोनों पहाड़ों को जोड़ता था। कई जंगली बेर पके हुए थे। वह जानता था कि भालू बेर खाना पसंद करते हैं।

उसने एक छोटे भालू के शावक को गलियारे से दूसरे पहाड़ पर जाते हुए देखा। गोली लगने से भालू घाटी में गिर जाता, इसलिए कोई फायदा नहीं होता, इसलिए वह चुपके से खड़ा हो गया। उसने दूरबीन से दूसरी तरफ एक बड़ा भालू देखा।

वे दोनों झगड़ेंगे और घाटी में गिरकर मर जायेंगे , उसने मन ही मन बड़बड़ाया। पगडंडी इतनी संकरी थी कि पीछे चलना नामुमकिन था और दोनों का एक साथ निकलना नामुमकिन था। उसने गौर से देखा।

एक गोली मारता तो दूसरा चिल्लाता और घाटी में गिर जाता। देखने के अलावा मैं कुछ नहीं कर सकता था।

दोनों भालू आमने-सामने आ गए। फिलहाल यह पता नहीं चल पाया है कि वह पद छोड़ने के बाद क्या करेंगे। पाँच मिनट तक वे शांत हुए और शिकारी ने देखा कि बड़ा भालू छिपकर बैठ गया है। छोटा भालू उसके ऊपर चढ़ गया। बड़ा भालू खड़ा हो गया।

सिख – हे भगवान, जानवर कितने समझदार होते हैं और लोग आपस में बहस कर रहे होते हैं। शिकारी बिना गोली चलाए चला गया। उसने शिकार करना छोड़ दिया। संत के आचरण को देखने से भी दृष्टि वाले व्यक्ति में सुधार होता है।


2. श्वेत हंस : Short Stories in Hindi for Kids

Short Stories in Hindi for Kids

दुर्गादास नाम का एक धनी किसान था। लेकिन वह बहुत आलसी था। वह कभी खेत देखने नहीं गया और न ही वह फसल देखने गया। उन्होंने अपनी गायों और भैंसों के साथ-साथ अपने घरेलू सामानों की भी देखभाल नहीं की। उसने सारा काम नौकरों पर छोड़ दिया। उसके आलस्य और लापरवाही ने घर को तबाह कर दिया था। उसे खेत में नुकसान होने लगा। गाय के दूध से उसे कोई लाभ नहीं हुआ।

एक दिन दुर्गादास का एक मित्र हरिश्चंद्र उनके घर आया।हरिश्चंद्र ने दुर्गादास की हालत देखी। उसने समझा कि आलसी दुर्गादास अपना स्वभाव नहीं बदलेगा। तो उन्होंने अपने प्रिय मित्र दुर्गादास की भलाई के लिए कहा, “मित्र, मैं आपकी बुरी स्थिति को देखकर बहुत दुखी हूं। मेरे पास आपकी गरीबी दूर करने का एक आसान सा उपाय है। मैं उसे जानता हूँ।

दुर्गादास ने कहा, “कृपया मुझे उपाय बताएं और मैं इसे लागू करूंगा।” हरिश्चंद्र ने कहा, सभी पक्षियों के जागने से पहले मानसरोवर में रहने वाला सफेद हंस धरती पर आ जाता है। वह भोर में लौटता है। उसे देखना बहुत ही सौभाग्यशाली माना जाता है। जिसने देखा उसे कभी किसी चीज की कुछ कमी नहीं होती।

दुर्गादास ने कहा, “मैं उस हंस के दर्शन अवश्य करूंगा। हरिश्चंद्र का निधन हो गया। अगली सुबह दुर्गादास जल्दी उठ गए। वह हंस को देखने घर के बाहर निकला। उसी समय उसने देखा कि एक व्यक्ति उसके गेहूँ के ढेर को अपने गेहूँ के ढेर में उंडेल रहा है। दुर्गादास को देखकर वे लज्जित हुए और क्षमा याचना करने लगे।

खलिहान से घर लौटने पर वह गौशाला में गया। वहां एक गार्ड गाय का दूध निकाल रहा था और अपनी पत्नी के बर्तन में डाल रहा था। दुर्गादास ने उसे फटकार लगाई। घर पहुँच कर उसने कुछ पानी पिया और हंस को देखने बाहर चला गया और खेत में चला गया। उसने देखा कि मजदूर अभी तक खेत पर काम करने नहीं आए थे। वह कुछ देर वहीं रुके। मजदूरों के आने पर उनके व्यवहार का खुलासा हुआ। इस प्रकार वह जिस स्थान पर गया था उसका नुकसान बच गया।

श्वेत हंस के अवसर पर दुर्गादास हमेशा सुबह उठकर बाहर जाने लगते थे। अब वह अपने सेवकों के साथ काम करने लगा। उनसे चोरी रोकी गई। पहले वह बीमार रहते थे, लेकिन अब वह ठीक हैं। वह खेत जहाँ दस बोरी अनाज काटा जा रहा था। उस स्थान पर अब पचास बोरी अनाज मिलता है।

एक दिन दुर्गादास का मित्र हरिश्चंद्र उनके घर आया। दुर्गादास ने कहा, “मित्र, मैंने आज तक एक सफेद हंस नहीं देखा। लेकिन उसे ढूंढ़ने से मुझे बहुत मदद मिली। हरिश्चंद्र मुस्कुराया और कहा, “कड़ी मेहनत एक सफेद हंस है। पंखों को केवल अनुपात की भावना देने के लिए दिखाया गया है।

सिख – जो बिना किसी प्रयास के नौकर को काम सौंप देता है उसे नुकसान उठाना पड़ता है।


3. शिबिराजा की कहानी : Hindi Short Stories with Moral

Hindi Short Stories with Moral

शिबी उशीनार देश का राजा था। एक दिन राजा एक सभा में बैठे थे। उसी समय एक कबूतर उड़ता हुआ आया और एक कपड़े में राजा की गोद में जाकर छिप गया। कबूतर बहुत डरे हुए थे। राजा ने प्यार से उस पर हाथ हिलाया।

कुछ देर बाद एक गीदड़ कबूतर के पीछे उड़ता हुआ आया और राजा के सामने बैठ गया। गीदड़ आदमी की तरह बोलने लगा। “आप न्यायप्रिय राजा हैं। किसी का भोजन नहीं छीनना चाहिए। यह खाने योग्य है। आपने उसे जाने दिया।” कबूतर मेरा भोजन हैं।

राजा शिबी ने कहा, “आप मनुष्य की भाषा बोलते हैं। यह कोई साधारण पक्षी नहीं होना चाहिए। तुम जो भी हो, यह कबूतर मेरे पास आया है। इसलिए मैं समर्पण नहीं छोड़ सकता।

गीदड़ ने कहा, “मुझे बहुत भूख लगी है। तुम मेरा खाना क्यों छीन ले रहे हो और मेरी जान ले ले रहे हो?”

राजा शिबि ने कहा, “तुम कोई भी मांस खाकर अपनी भूख मिटा सकते हो। आपको कबूतर को मारने की जरूरत नहीं है। आप कितना मांस चाहते हैं?

गीदड़ ने कहा, “राजा, अगर कबूतर मर जाए या कोई और जानवर मर जाए, तो मांस मिल जाएगा।” अगर सभी जानवर हमारे लोग हैं और आत्मसमर्पण कर चुके हैं, तो इस कबूतर को क्यों मारें यदि आप उनमें से किसी को मारना चाहते हैं। मैं एक ताजा मांस खाने वाला हूँ। मैं अशुद्ध मांस खाने का लालची नहीं हूँ। इसके साथ तौलने वाला ताजा मांस मेरी भूख को संतुष्ट कर सकता है, चाहे जानवर कोई भी हो।

राजा ने सोचा और कहा, “मैं दूसरे जानवर को नहीं मारूंगा। मैं तुम्हें अपना मांस दूंगा। खरगोश ने कहा, “कबूतर के लिए तुम अपना ही शरीर क्यों काटते हो?” फिरसे सोचो। “

राजा ने कहा, “गीदड़, तुम्हें अपना पेट भरना होगा।” तुम मेरा मांस ले लो और पेट भर लो। मुझे लगा कि मेरा शरीर अमर नहीं है। यदि शरीर समर्पित पशु की रक्षा करने में उपयोगी है, तो इसके अलावा और कोई उपयोग नहीं हो सकता है।

राजा ने एक कांटा लेन का आदेश दिया। एक बाजु में कबूतर को रखा गया और दूसरे बाजु में बायां हाथ काट दिया गया लेकिन कबूतर की बाजु जमीन से नहीं उठा। शिबि राजा ने अपना एक पैर काट कर बाजु में डाल दिया, लेकिन कबूतर की बाजु नहीं उठा। वे बहुत भारी थे। भले ही शिबी राजा का शरीर खून से लथपथ था, लेकिन उन्हें दर्द नहीं हो रहा था। अब वह स्वयं पारे में बैठ गया और गीदड़ से कहा कि मुझे खाओ और अपनी भूख मिटाओ।

जिस बाजु में राजा बैठे थे जमीं पर था और जिस बाजु में कबूतर था वह ऊपर था । उस समय सभी ने देखा कि गीदड़ इंद्रदेव के रूप में प्रकट हुआ। अग्नि देवता ने कहा, “राजा, आप इतने महान धर्मात्मा हैं कि आपकी तुलना दुनिया में किसी से नहीं की जा सकती”।

इंद्र ने राजा के शरीर को पहले की तरह ठीक कर दिया, और हम दोनों ने धर्म का परीक्षण करने के लिए गीदड़ और कबूतर का रूप धारण किया। आपकी सफलता अमर रहेगी। दोनों देवताओं ने राजा की स्तुति की और उसे आशीर्वाद दिया और गायब हो गए।

सिख – सत्य की राह और अपने न्यायपूर्ण स्वाभाव से कभी पीछे नहीं हटना चाहिए। भलेही शुरुवात में आपको यातना मिले लेकिन बाद में फल मीठा ही मिलेगा।


4. पिता और पुत्र : 10 lines short stories with moral

10 lines short stories with moral

एक जवान पिता अपने छोटे लड़के के साथ बैठा था। कुछ देर बाद उनके सामने घर की छत पर एक कौवा बैठा। लड़के ने पिता से पूछा, “यह क्या है?”

पिता ने कहा, एक कौवा है। लड़के ने फिर पूछा, “यह क्या है?” पिता ने पलटकर कहा, यह कौआ है।

लड़का सोच रहा था कि यह क्या है। पिता ने प्यार से उसे हर बार कहा कि यह एक कौवा है।

कुछ साल बाद लड़का बड़ा हुआ और पिता बूढ़ा हो गया। एक दिन पिता चटाई पर बैठे थे तभी घर में कोई लड़के से मिलने आया और पिता ने उससे पूछा, “कौन आया है?

लड़के ने नाम बताया। कुछ देर बाद एक और आदमी आया और पिता ने वापस पूछा। इस बार लड़के ने गुस्से से कहा, “तुम क्या करना चाहते हो?

पिता ने एक गहरी सांस ली। अपने हाथों में अपना सिर पकड़कर, बड़े दुख के साथ वह धीरे से बोलने लगा, “मैंने तुम्हें कभी डांटा नहीं। हर बार मैं तुमसे कहता हूं कि एक कौवा है

सिख – जो बच्चे अपने माता-पिता से नफरत करते हैं उन्हें बुरा माना जाता है। आपको हमेशा याद रखना चाहिए कि आपके पालन-पोषण के लिए आपके माता-पिता ने कड़ी मेहनत की और आपको प्यार दिया।


5. किसी को दोष मत दो : Small Moral Stories in Hindi

Small Moral Stories in Hindi

भगवान बुद्ध का एक शिष्य खड़ा होकर उन्हें प्रणाम कर रहा था। भगवान ने पूछा, तुम क्या चाहते हो?

शिष्य: ईश्वर की आज्ञा हो तो मैं पूरे देश की यात्रा करना चाहता हूं।

भगवान: लोगों में अच्छे और बुरे लोग हैं। दुष्ट लोग तुम्हें शाप देंगे। तब आपको कैसा लगेगा?

शिष्य: मैं समझता हूँ कि वे अच्छे हैं। क्योंकि उन्होंने मुझ पर न तो धूल झोंकी और न ही मुझे थप्पड़ मारा।

भगवान: उनमें से कुछ धूल फेंक सकते हैं और थप्पड़ भी मार सकते हैं।

शिष्य: मैं उन्हें इतनी अच्छी तरह समझ लूंगा कि वे मुझे लाठियों से नहीं पीटेंगे।”

भगवान- : दस-पांच लोग लाठियां पीट रहे होंगे।

शिष्य: अच्छा है की वह मुझे हत्यारों से नहीं मार रहे।

भगवान: देश बहुत बड़ा है। जंगल में चोर और लुटेरे रहते हैं। लुटेरे तुम्हें हत्यारों से मार डालेंगे।

शिष्य: वे लुटेरे मुझे जिंदा छोड़ेंगे जो काफी दयालु होंगे।

भगवान- तुम्हें कैसे पता कि लुटेरे तुम्हें छोड़ देंगे.. वे मार भी सकते हैं।

शिष्य: यह संसार दु:खी है। इसमें तो दुःख जिंदा ही भुगतना पड़ता है। आत्महत्या पाप है। कोई दूसरा मारे तो उस पर दया की जाएगी। शिष्य की बात सुनकर भगवान प्रसन्न हुए। उन्होंने कहा, “अब आप यात्रा करने के लिए तैयार हैं।

सिख – सच्चा साधु वह है जो किसी को और किसी भी परिस्थिति में बुरा नहीं मानता। जो दूसरों की बुराई नहीं देखता वह सबसे अच्छा माना जाता है, वही निःस्वार्थ होने का पात्र है।


6. लालची बंदर : Short Animal Stories in Hindi

Short Moral Stories in Hindi for Class 1

एक बंदर रोज एक आदमी के घर आता था और दंगा करता था । कभी कपड़े फाड़ देता, कभी बर्तन ढोता, कभी बच्चों को पीटता। उसने खाने-पीने की चीजें भी ले लीं, लेकिन उसके परिवार को कोई शिकायत नहीं थी। लेकिन वे बंदरों से त्रस्त थे।

एक दिन घर के कर्ता ने कहा, “मैं इस बंदर को पकड़ कर निकाल दूंगा।” केवल घागरी का मुंह खुला रह गया था। सब चले गए। बंदर घर में आया। कुछ देर बाद वह कूद कर बाहर आया। जब उसने दबे हुए घड़े में छोले देखे तो वह वहीं बैठ गया।

चना निकालने के लिए उसने जार में हाथ डाला और एक मुट्ठी चना पकड़ लिया। लेकिन घड़े का मुंह छोटा होने के कारण हाथ का हत्था बाहर नहीं निकला। इसके लिए उसने जोर से धक्का दिया और कूदने लगा। लेकिन लालची बंदर ने हाथ के चने नहीं छोड़े।

फिर नौकर ने बंदर को रस्सी से बांधकर बाहर निकाला। लालची बंदर पकड़ा गया।

सिख – लालच बहुत बुरी बला है।


7. लालची राजा : Short Moral Stories in Hindi for Class 1

Short hindi stories

यूरोप में ग्रीस नाम का एक देश है। ग्रीस पर पहले मिडास नाम के एक राजा का शासन था। राजा बहुत लालची था। अपनी बेटी के अलावा, दुनिया में उन्हें केवल एक चीज पसंद थी, वह थी सोना। उसने सोना पाने के बारे में सोचकर रात बिताई।

एक दिन राजा मिडास अपने खजाने में सोने की ईंटें और सिक्के गिन रहा था। अचानक एक देवदूत राजा के पास आया और कहा, “मिडास, तुम बहुत अमीर हो।

मिडास ने मुड़कर कहा, मैं धनी नहीं हूं, मेरे पास थोड़ा सोना है। देवदूत ने कहा, “तुम इतने सोने से संतुष्ट नहीं हो। आपको कितना सोना चाहिए?”

राजा ने कहा, “मुझे लगता है कि मैं जो कुछ भी छूता हूं वह सोने का होना चाहिए।”

देवदूत मुस्कुराया और कहा, “ठीक है, तुम सुबह से जो कुछ भी छूओगे वह सोना होगा।” उस रात मिडास को नींद नहीं आई। वह सुबह उठा। उसने कुर्सी पर हाथ रखा और वह सोने की हो गई। मिडास बहुत खुश हुआ। वह नाचने लगा। वह पागलों की तरह भागा और बगीचे में चला गया। वह उस जगह की हर चीज को छूने लगा। उन्होंने फूलों, पत्तियों, शाखाओं को छुआ। वे सभी सोने के बने थे। सब चमकने लगे। मिडास के पास सब कुछ सोने में बदल गया।

मिडास दौड़ते-भागते थक गया था। वह नहीं जानता था कि उसके कपड़े सोने के बने हैं, इसलिए वे भारी हो गए। जब वह बगीचे से महल में आया, तो वह एक सोने की कुर्सी पर बैठ गया। एक नौकर ने अपना खाना और पानी भरकर गिलास में लाया। परन्तु जैसे ही मिडास ने भोजन को छुआ, तो सारा भोजन सोना हो गया, उसने पीने के लिए एक गिलास पानी लिया, और गिलास और पानी सोने में बदल गया।

मिडास के सामने सुनहरे रोटी, सुनहरे चावल, सुनहरे आलू थे। वह भूखा था, प्यासा था। वह सोना खाना बंद नहीं कर सका।

मिडास रोया। उसी समय उसकी बेटी खेलने आई और जब उसने अपने पिता को रोते हुए देखा तो उसने उसे गले से लगा लिया और आंसू पोछने लगी। मिडास ने उसे अपने सीने से लगा लिया। लेकिन उसकी बेटी कहाँ थी? वह मिडास के बीच में सोने की बनी थी। वह इतनी भारी थी कि उसे उठा नहीं सकती थी। बेचारा मिडास ने सिर हिलाया और रोने लगा। देवदूत को उस पर दया आई। उसे देखकर मिदास उसके चरणों में गिर पड़ा और प्रार्थना करने लगा, “अपना उपहार वापस ले लो।

देवदूत ने पूछा, “मिडास, तुम्हें अब सोना नहीं चाहिए। मुझे बताओ, एक गिलास पानी अधिक मूल्यवान है या सोना ?” शहद का टुकड़ा बेहतर है या सोना?

मिडास ने हाथ जोड़े और कहा, “मुझे सोना नहीं चाहिए। मैंने गलत समझा कि आदमी के पास जरूरत से ज्यादा सोना नहीं होना चाहिए। उसके बिना मनुष्य का कार्य बाधित नहीं होता। लेकिन एक गिलास पानी और भोजन के बिना लोग काम नहीं कर पाएंगे। मैं अब सोने का लालच नहीं करूंगा।”

स्वर्गदूत ने पानी का कटोरा लेकर कहा की यह चीजों पर छिड़क दो जिससे चीजे पहले जैसी हो जाएगी : मिडास ने अपनी बेटी पर, मेज पर, कुर्सी पर, भोजन पर, पानी पर, और बगीचे की सभी चीजों पर पानी छिड़का।

सिखलालच बुरी बला है और मनुष्य की जरुरत काफी काम है लेकिन मनुष्य लालच ज्यादा करता है।


8. निष्पाप दान : Simple Short Motivation Stories in Hindi

Simple Short Motivation Stories in Hindi

एक पुराना मंदिर था। इसकी दीवारें गिर चुकी थीं। तेज बारिश से मंदिर की छत हिल गई। उस दिन एक साधु आया और मंदिर में बैठ गया। उसकी किस्मत अच्छी थी इसलिए उसके ऊपर का कोना नहीं गिरा। साधु को कोई नुकसान नहीं हुआ।

साधु सुबह उठकर दान लेने बाजार गया। बाजार में लोगों की भगवान में बड़ी आस्था थी। साधु विद्वान था। वह दरवाजे पर गया और चंदा इकट्ठा किया। मंदिर की मरम्मत करा दी। उसने एक बड़ा उत्सव मनाया और भगवान की एक मूर्ति स्थापित की। इसकी पूजा की, भंडारा किया गया, सभी ने आनंद से प्रसाद ग्रहण किया।

भंडारा के दिन साधु दानदाताओं को धन्यवाद देने के लिए उठ खड़े हुए। उनके हाथ में कागज था। इसमें दानदाताओं के नामों की एक लंबी सूची थी। सबसे बड़े दान में से एक एक बूढ़ी औरत द्वारा किया गया था।

लोगों को लगा कि बुढ़िया ने सौ-दो सौ रुपए दिए होंगे। कुछ लोगों ने सौ रुपये दिए थे। लेकिन सब हैरान थे कि जब साधु ने कहा कि उसने मुझे चार आने दिए तो लोगों को लगा कि साधु मजाक कर रहा है। साधु ने आगे कहा, “वह लोगों के घर जाती है और आटा पीसती है। यह पैसा उसने कुछ महीनों के लिए इकट्ठा किया था। यह उनके जीवन की पूंजी थी। मैं सब कुछ दान करने वाली बूढ़ी मां को नमस्कार करता हूं। यह सुनकर लोगों की गर्दन झुक गयी।

सिखमन और ह्रदय से दिया गया दान सर्वश्रेष्ठ दान होता है।


9. सच्चे बेटे की पहचान : Very Short Motivation Story in Hindi

Very Short Motivation Story in Hindi

एक गांव में तीन महिलाएं एक साथ पानी लाने के लिए झील पर जा रही थीं। वहाँ एक बूढ़ा यात्री बैठा था और वह सत्तू का आटा खा रहा था। वे तीनों अपने-अपने बर्तनों और अपनी बातचीत के साथ जमीन पर बैठे थे, जिसे बूढ़ा व्यक्ति सुन सकता था।

एक महिला ने दूसरी से कहा, “ताई, जब पंडित तोताराम के शिष्य मेरे बेटे शास्त्री के रूप में घर आए, तो उन्होंने गांव में हंगामा किया। सब उसकी तारीफ करने लगे। वह कुछ अशुभ कहता है कि यह जल्द ही भुगतान करेगा और सुनेगा, वह आकाश में सितारों को गिनता है और उन्हें नाम देता है। वह स्वर्ग में सब कुछ जानता है। यमराज अपने यमलोक में हैं और न्याय देना जानते हैं। उसे भैरव की सभी जनजातियों के नाम, यमदूतों के नाम, नरक के स्थानों के नाम याद हैं। पता नहीं वह भगवान की लीला को कैसे जानता है? पंडित विवाह का विज्ञान जानते हैं। इसलिए कोई उनका विरोध नहीं करता। मुझे ऐसे पंडित को जन्म देने का सौभाग्य मिला। मैं जहां भी जाता हूं, वे मुझे इशारा करते हैं और कहते हैं, देखो, वह शास्त्री की मां है। वह पानी भरने जा रही है।

उसकी कहानी सुनने के बाद, दूसरी महिला ने कहा, “सखी, मेरे बेटे को सुनना है। मेरा बेटा पहलवान है। उनके जैसा पहलवान दस-पांच गांवों में नहीं देखा जाएगा। वह सुबह-शाम पांच सौ सूर्यनमस्कार करते हैं। वह अखाड़े में अन्य पहलवानों के साथ कुश्ती करता है। वास्तव में, किसी भी पहलवान ने उनसे इतनी प्रसिद्धि नहीं अर्जित की है।

मैं इसे खाना बनाता हूं और रोजाना खिलाता हूं। वह खाने-पीने के बाद हाथी की तरह घूमता है। एक किसान ने मेरी तरफ देखा और अपने बेटे से कहा कि यह उस पहलवान की मां है जिसने कल्लू नताला को घेर कर जीत हासिल की थी। वास्तव में, लड़के की महानता के बारे में सुनकर मुझे बहुत खुशी हुई।

दोनों की कहानी सुनकर तीसरी महिला चुप रही। एक महिला ने कहा, “तुम चुप क्यों हो? लगता है आपके बेटे की तबीयत ठीक नहीं है। तीसरी महिला बोली, महिला ऐसी नहीं है। वह मेरे लिए अच्छा है। वह नहीं चाहता कि उसका नाम सांसारिक हो। वह सरल और सीधा है। वह दिन भर खेतों में काम करता है और शाम होने पर घर में पानी भर देता है। घर का काम करते हुए, उसके पास बाहर खुद का नाम बनाने के लिए समय नहीं है।

आज मैंने उससे इतना आग्रह किया कि वह मेले में गया और मुझे पानी लाने के लिए आना पड़ा। मुझे यहां आते देख सभी सोचने लगे कि मुझे पानी लेने के लिए बाहर क्यों जाना पड़ रहा है।

तीनों ने बातें कीं और जल्द ही बर्तन में पानी भर गया और वह चली गयी। हालाँकि, बूढ़ा यात्री उनका पीछा करने लगा। कुछ ही दूर पर तीन छोटे बच्चे आ रहे थे। उनमें से ज्यादातर इन महिलाओं के बच्चे होने चाहिए। लड़कों में से एक पहली महिला के पास पहुंचा और कहा, “माँ, मैं अच्छे रस्ते से घर जा रहा हूँ। सड़क पर पानी से भरा घड़ा मिलना शुभ होता है। इतना कहकर वह अपने घर चला गया।

दूसरे लड़के ने कहा, “माँ, मैंने मेले में दंगा जीत लिया। पानी लेकर जल्दी घर आ जाओ, मुझे बहुत भूख लगी है। इसके साथ ही उन्होंने चलना जारी रखा।

उसके बाद तीसरी स्त्री का पुत्र पास आया और उसने पानी का घड़ा अपने हाथ में लेकर कहा, “माँ, तुम पानी लेने क्यों आई हो? मैं अभी आ रहा था।”

जब वह घड़ा लेकर घर जाता है तो सभी अपने बच्चों को देखते हैं और उनके साथ चलने वाले बूढ़े यात्री से पूछते हैं, “पिताजी, हमारे बच्चों को देखकर आपका क्या कहना है?”

बूढ़े ने अपनी दाढ़ी पर हाथ हिलाया और कहा, “बच्चों के बारे में कुछ बताओ, लेकिन मेरी राय में, तीनों में एक लड़का है जो अपने ही बेटे के रूप में जाना जाता है। पहले दो अपनी माँ के गर्भ में पैदा हुए और उनका निधन हो गया। तीसरा लड़के का शरीर अलग हो जाता है, लेकिन उसका मन माँ के मन से मिलता है। मैं उनकी आत्मीयता के कारण उन्हें पुत्र मानता हूं।”

दोनों महिलाओं के मुंह उनके गले में ऐसे लटके हुए थे मानो वे चमगादड़ की तरह दिख रहे हों। उसकी हालत एक पेड़ पर उल्टा लटके हुए चमगादड़ जैसी थी।

सिखव्यक्ति महानता से नहीं तो अपने संस्कार से चमकता है।


10. सच्चा लड़का अब्दुल कादिर : Short Moral Story for Adults in Hindi

Short Moral Story for Adults in Hindi

सैय्यद अब्दुल कादिर का जन्म ईरान के जिलान गांव में हुआ था। उनके पिता की मृत्यु शैशवावस्था में ही हो गई थी। उसकी माँ ने उसे पाला। बालक अब्दुल कादिर की बचपन से ही शिक्षा में रूचि रही है। जिलान गांव के पास उच्च शिक्षा की कोई सुविधा नहीं थी।

गाँव में अपनी शिक्षा पूरी करने के बाद, उन्होंने बगदाद जाने का फैसला किया। उच्च शिक्षा का केंद्र बगदाद में था। अब्दुल कादिर की मां नहीं चाहती थीं कि उनका इकलौता बच्चा इतना दूर जाए। लेकिन लड़के की शिक्षा के प्रति रुचि को देखते हुए उसने उसे जाने दिया।

यह नौ सौ साल पहले की बात है। तब कोई कार या ट्रेन नहीं थी। व्यापारी ऊँट, खच्चर और अन्य जानवरों का व्यापार करने के लिए बड़ी संख्या में गाँव-गाँव जाते रहे थे। लेकिन रास्ते में कुछ लुटेरे और ठग रहे थे। तीर्थयात्री भी व्यापारियों के साथ समूहों में आ रहे थे। व्यापारियों का एक दल बागलान से बगदाद के लिए निकलने वाला था। अब्दुल कादिर की मां ने अपने बेटे को चालीस अशरफियों को शर्ट में बांधकर रख दिया।

जब व्यापारियों का एक दल बगदाद के लिए निकला तो वह उनके साथ चलने लगा। माँ ने कहा, “बेटा, तुम्हारे पिता ने इतना पैसा छोड़ दिया है। एक बात याद रखना, कितनी भी मुसीबत आ जाए, झूठ मत बोलो, भगवान पर विश्वास करो।”

मां का अभिवादन करने के बाद पुत्र अब्दुल कादिर व्यापारियों के दल के साथ चलने लगा। रास्ते में लुटेरों ने व्यापारियों को घेर लिया और उनका सामान लूट लिया। लुटेरों की भरमार थी। शांत जंगल में हमला करने के कारण व्यापारी कुछ नहीं कर सके। अब्दुल कादिर के कपड़े फटे हुए थे, इसलिए लुटेरों ने महसूस किया कि लड़के के पास कुछ भी नहीं है। जब लुटेरों ने व्यापारियों को लूटना शुरू किया, तो लुटेरों में से एक ने अब्दुल कादिर से पूछा, “बेटा, तुम्हारे पास क्या है?

अब्दुल कादिर को अपनी माँ की कहानी याद आई और उन्होंने बिना किसी डर के कहा, “मेरे पास ऐसे चालीस हैं।” लुटेरे को लगा कि लड़का मजाक कर रहा है। वे गुस्से में थे, लेकिन लुटेरे तब हैरान रह गए जब अब्दुल कादिर ने अपनी बनियान उतार कर उन्हें दिखाई। उनके मुखिया ने पूछा, “बेटा, तुम्हें पता है कि हम अशरफी को तुमसे दूर करने जा रहे हैं।” लेकिन आपने हमें इसके बारे में बताया।

अब्दुल कादिर ने कहा, ”मेरी मां ने मुझे झूठ बोलने के लिए नहीं कहा. मैं अशरफी को बचाने के लिए झूठ कैसे बोल सकता हूं? तुम अशरफ को ले लो तो भी ईश्वर मुझ पर कृपा करेगा।”

एक छोटे बच्चे की बातें सुनकर लुटेरे को अपनी डकैती का गहरा अफसोस हुआ। उन्होंने अब्दुल कादिर को अशरफी को लौटा दिया, सभी व्यापारियों का माल लौटा दिया और लूट का काम छोड़ दिया। इस प्रकार एक लड़के ने सच्चाई का सामना किया और लुटेरों को पाप से बचाया।

सिखसच्चाई का फल हमेशा मीठा होता है।


11. मजदुर बच्चे की ईमानदारी : Cute Inspirational Short Moral Stories in Hindi

Cute Inspirational Short Moral Stories in Hindi

एक दिन एक अमीर आदमी के घर की चिमनी साफ करने के लिए मजदूर लड़के को बुलाया। लड़का सफाई करने लगा। उसने कमरे में सुंदर चीजों को देखा और उन्हें सजाया। वह कमरे में अकेला था इसलिए उसने सब कुछ उठा लिया। अचानक उनका ध्यान हीरे-मोती से बनी एक घड़ी की ओर गया। यह सोना था।

उसने घड़ी उठाई और देखने लगा। वह इतना सुंदर था कि उसने अपना आपा खो दिया। उसने कहा कि अगर मेरे पास ऐसी घड़ी होती तो उसके मन में पाप आ जाता। उसने घड़ी चुराने का फैसला किया। लेकिन दूसरे क्षण में वह डर के मारे चिल्लाया, “हे भगवान, मेरे मन में कितना बड़ा पाप आ गया है। अगर मैं चोरी करते पकड़ा गया तो मेरी कितनी दयनीय स्थिति होगी। सरकार सजा देगी। आपको जेल जाना होगा और पत्थर फेंकना और तेल से बाहर निकलना शुरू करना होगा।

अगर ईमानदारी चली गई है, तो कौन मुझ पर विश्वास करेगा और मुझे घर आने देगा। चोरी यदि वह मनुष्य के हाथ से न पकड़ी जाए, तो परमेश्वर के हाथ से कुछ भी नहीं छूटता। माँ हमेशा कहती है कि हम भगवान को नहीं देखते हैं लेकिन भगवान हमेशा हमें देखते हैं। इसमें हम कुछ नहीं कर सकते। वह न केवल अँधेरे में देखता है बल्कि वह जानता है कि उसके मन में क्या है।

बोलते-बोलते लड़के का चेहरा गिर गया और उसके शरीर से पसीना निकलने लगा। वह कांपने लगा। घड़ी को सही जगह पर रखते हुए उसने जोर से कहा, “लालच बहुत बुरा है। लोग इसी लालच में फंस जाते हैं और चोरी कर लेते हैं। मेरे लिए एक अमीर आदमी की घड़ी क्या अच्छी है? लालच ने मुझे बर्बाद कर दिया है, लेकिन दयालु भगवान ने मुझे बचा लिया है।

अब मैं कभी लालची नहीं होऊंगा। चोर कितना भी अमीर क्यों न हो, चैन से नहीं सोता। ओह, यह एक चुराए हुए मन का फल है, न जाने मुझे कितनी पीड़ा और कष्ट सहने पड़ते। इतना कहकर लड़का शांति से अपना काम करने लगा।

मकान मालकिन पास के कमरे से देख रहा था। और सुन रहा था। वह तुरंत लड़के के पास पहुंची और बोली, “अरे लड़के, तुमने घड़ी क्यों नहीं ली? यह सुनकर बालक सन्न रह गया। अगर उसे काट दिया जाता, तो उसके पास खून नहीं होता। वह सिर पकड़कर जमीन पर बैठ गया और कांपने लगा। उसने बात करना बंद कर दिया। उसकी आंखों में आंसू छलक आए।

मालिक को बच्चे पर तरस आया। वह प्यार भरे स्वर में बोलै, “बेटा, डरो मत, मैंने तुम्हें बोलते हुए सुना है। मुझे यह देखकर खुशी हुई कि आप अपनी गरीबी के बावजूद इतने अच्छे हैं कि आप ईमानदारी, धर्म और ईश्वर से डरते हैं। धन्य है आपकी माँ जिसने आपको लालच में न पड़ने की शक्ति दी। लालच में कभी न पड़ें। मैं तुम्हारे भोजन और पुस्तकों का प्रबंध करूँगा। तुम सुबह से स्कूल जाओ और पढ़ना शुरू करो। भगवान आपका भला करे इतना कहकर उसने उसका हाथ उठाकर उसे अपने दिल से लगा लिया और उसे अपने पद से कुछ पैसे दिए और कहा, “यह तुम्हारी ईमानदारी का इनाम है।”

मालकिन के प्यार भरे शब्दों से लड़के का दिल खुशी से भर गया। उनके चेहरे पर कृतज्ञता झलक रही थी। वह अगले दिन स्कूल जाने लगा। बाद में वे एक महान विद्वान और प्रतिष्ठित नागरिक बने।इस तरह उन्हें कड़ी मेहनत और सच्चाई का फल मिला।

सिखकड़ी मेहनत और सच्चाई का फल हमेशा मीठा होता है


12. संगत के परिणाम : Good Short Moral Stories in Hindi

Good Short Moral Stories in Hindi

एक बार एक तोता विक्रेता बाजार में आया। उसके पास दो पिंजरे थे। प्रत्येक पिंजरे में एक तोता था। एक तोते की कीमत पांच सौ रुपए और दूसरे की कीमत पांच पैसे है। वह कह रहा था कि अगर कोई पांच पैसे में तोता लेने को तैयार है तो ले लो। लेकिन पांच सौ रुपए में एक तोता खरीदने वालों को दूसरा तोता खरीदना होगा।

राजा बाजार देखने आया था। तोते की आवाज सुनकर उसने हाथी को रोका और पूछा, “कीमत में अंतर क्यों?”

तोते वाले ने कहा, ”इसे लेने के बाद आप अपने आप समझ जाएंगे. राजा ने तोते खरीदे। जब वह सो गया, तो उसने नौकर से कहा कि वह अपने बिस्तर पर पांच सौ रुपये का तोता पिंजरा लटकाए। सुबह चार बजे तोते ने राम राम सीता राम का भजन गाया। उन्होंने सुन्दर श्लोकों का पाठ भी किया। राजा प्रसन्न हुआ।

अगले दिन राजा ने दूसरे तोते का पिंजरा रखा। सुबह होते ही तोता गन्दी गलियां लगा। राजा गुस्से में था। उसने नौकर से कहा कि तोते को मार डालो।

पहला तोता राजा के पास था। उसने नम्रतापूर्वक राजा से कहा कि वह उसे न मारें। वह मेरा भाई है हम दोनों जाल में फंस गए और फंस गए। मुझे एक संत ने ले लिया था। मैंने उनसे भजन सीखे। इसे एक हत्यारे ने लिया था। वहां उन्होंने वह पर गालिया देना सीखा। उसके साथ कुछ भी गलत नहीं है। यह बुरी संगत का परिणाम है। राजा ने उसे नहीं मारा, बल्कि उसे उड़ा दिया।

सिखअच्छी संगत का परिणाम हमेशा अच्छा और बुरी संगत का परिणाम हमेशा बुरा ही होता है


13. कमजोरी का पाप : Akbar Birbal Short Moral Stories in Hindi

Kamjori ka paap hindi story

जब भेड़िया नदी के किनारे पानी पी रहा था, उसने देखा कि एक मेमना पानी पी रहा है। उसे देखकर उसके मुँह में पानी आ गया और उसने कहा, “क्या! पानी क्यों जुटा कर रहे है? क्या तुम नहीं देखते कि मैं पानी पी रहा हूँ।” मेमने ने कहा, “चाचा! ऊपर से पानी पियेंगे तो पानी बहेगा। वही तो पी रहा हूँ। भेड़िये ने पिल्ले से बहस करने का नाटक किए बिना कहा, “तो! आप मुझे साल भर श्राप देते हैं।

मेमने ने तुरंत कहा, “चाचा! मेरी जिंदगी मुश्किल से छह महीने की है। तो मैं तुम्हें साल भर कैसे शाप दूं। भेड़िये ने गुस्से से कहा, “ओह, कल दो मील दूर से तुम्हारी माँ मुझे चिढ़ा रही थी? – मेमने ने कहा,” अंकल! उसे मरे एक महीना हो गया है। तो कल दो मील से तुम कैसे चिढ़ा सकती है।

भेड़िये ने देखा कि मेमना बहुत चालाक है। कुछ भी मानने को तैयार नहीं है। तो उसने गुस्से से कहा, क्या लड़का है, तुम बहुत दूर हो
तुम मेरा सामना क्यों कर रहे हो?” यह कहकर उसकी हत्या कर दी गई। उस समय पेड़ पर बैठी मैना ने कौवे से कहा, ”निर्बल कितनी ही शालीनता और सच्चाई से बोलें, सबल उसे सुरक्षित नहीं रखता। जब तक भेड़ें पैदा होती हैं, भेड़िये भी पैदा होते हैं।

सिखनिर्बल कितनी ही शालीनता और सच्चाई से बोलें, सबल उसे सुरक्षित रहने देता।


14. शिकारी और बुलबुल : Inspirational Short Moral Stories in Hindi

Inspirational Short Moral Stories in Hindi

एक जंगल में एक बुलबुले ने अपना सुंदर घोंसला बना लिया था। उसके दो चूजे थे। वह बहुत छोटी थी। बुलबुल रोज अपने चूजों के लिए बीज लाती थी और बारी-बारी से उन्हें खिलाती थी। पिल्ले धीरे-धीरे बढ़ने लगे।

कुछ दिनों के बाद, पिल्ले भी अपनी माँ के साथ भोजन खोजने लगे और वे अपनी माँ के साथ घर वापस आ गए।

कुछ दिन बीत गए। चूजे बड़े हो गए थे। अब वह अपनी माँ के बिना अपना भोजन लाने जा रहे थे।

एक बार की बात है दोनों चूजे अपना भोजन ढूँढने निकले। भोजन की तलाश में एक पिल्ला को एक कीमती मोती मिला।

“यह चीज देखो। हमें उसे अपनी मां के पास ले जाना है। शायद यह एक काम की वस्तु है।” एक पिल्ला ने दूसरे से कहा।

“ओह, छोड़ो, इसका क्या उपयोग है?” यह आपकी भूख को संतुष्ट नहीं करेगा। आप इसे फेंक देते हैं और बीज ढूंढते हैं। चिंता मत करो, ‘दूसरे पिले ने कहा।

नहीं, मैं इसे अपनी माँ के पास ज़रूर ले जाऊँगा, मुझे लगता है कि यह आपके लिए उपयोगी होगा, पहला पिल्ला उड़ गया और मोती ले गया और माँ के पास आया और कहा, “माँ, इसे देखो! आज मुझे यही मिला है।

“बेटा, यह तो बहुत कीमती चीज़ है। बुलबुल ने मोतियों को अपने घोंसले में रखते हुए कहा कि ऐसी वस्तुएं समय के साथ बहुत उपयोगी होती हैं।

एक दिन एक शिकारी जंगल में आया। उसने एक ही स्थान पर ढेर सारे बीज फैला दिए। उसने अपना जाल निकाला और कुछ ही दूर एक पेड़ के नीचे बैठ गया। कुछ ही देर में कई पक्षी शिकारी के जाल में फंस गए। बुलबुल के दोनों चूजे भी शिकारी के जाल में गिर गए।

अब क्या करें सभी पक्षी एक साथ आए और सोचने लगे।

आइए हम शिकारी को प्रार्थना करें कि वह हमें आपके जाल से बाहर निकाले क्योंकि हमारे चूजे घोंसले में हमारा इंतजार कर रहे होंगे। हो सकता है कि आपकी दया आ जाए और शिकारी आपको जाने दे। ” एक मैना बोली।

“कोई भी शिकारी तुम्हें इस तरह कभी नहीं छोड़ेगा। हां, यदि आप उसे किसी मूल्यवान वस्तु का लालच देंगे, तो वह आपको जाने देगा।”

लेकिन हमारे पास इतनी कीमती चीज कहां है? एक पक्षी ने नाराज़ होकर कहा।

“हमारे पास एक कीमती मोती है। यह हमारी माँ के घर में छिपा है। अगर हम उसे शिकारी को देंगे तो वह हम सबको जाने देगा।” बुलबुल का पिल्ला कहा।

लेकिन आपको वह मोती कैसे मिलेगा?” चिड़िया ने रानी से कहा।

एक कबूतर अभी भी आज़ाद है। देखो, वह उस पेड़ पर बैठा है। अगर आप उसे बुलबुल के घोंसले से मोती लाने को कहें तो वह आपकी मदद कर सकता है। कोयल ने कहा।

कुछ पक्षियों ने कबूतर को बुलाया और सब कुछ समझाया। कबूतर तुरंत उनकी सहायता के लिए आया। वहां से वह बुलबुल आया और उसे सब कुछ समझाया।

बुलबुल ने मोती लिया और वह कबूतर के साथ उस स्थान पर आ गई जहां सभी पक्षी और उसके चूजे फंस गए थे। अब शिकारी भी उसके जाल में आ गया था। बुलबुल ने शिकारी से कहा, “भाई, यदि आप उन सभी को अपने जाल से बाहर निकाल देंगे, तो मैं आपको कुछ ऐसा दूंगा जो आपके जीवन भर काम आएगा।” शिकारी ने आश्चर्य से कहा, “यह क्या बात है?” यह अनमोल मोती। बुलबुल ने शिकारी को मोती दिखाते हुए कहा।

मोती को देखते ही शिकारी की आंखें चमक उठीं। उन्होंने कहा, “यह वास्तव में एक कीमती मोती है।” इसे मुझे दो मैं उन सबको छोड़ दूँगा।

लेकिन बुलबुल बेवकूफ नहीं थी। मोती शिकार के पक्षियों को नहीं छोड़ेंगे। अगर ऐसा होता तो पक्षी मर जाते और मोती भी।

बुलबुल ने कहा, “पक्षियों को अकेला छोड़ दो। जैसे ही वे सब उड़ जाएंगे, मैं इस मोती को नीचे फेंक दूंगी। शिकारी जानता था कि पक्षी झूठ नहीं बोलते। उसने पक्षियों को छोड़ दिया। सभी पक्षी उड़ गए। तब बुलबुल ने कहा, “मैं तुम्हें मोती नहीं दूंगी क्योंकि तुम दूसरों को चोट पहुँचा रहे हो।

यह मोती बहुत महत्वपूर्ण है। आप निर्दयी हैं तुम किसी भी जीव पर दया नहीं करते, इसलिए मैं तुम पर दया नहीं करूंगा। बुराई बदतर होनी चाहिए। यही तुम्हारी सजा है।’

अब बुलबुल का दूसरा पिल्ला भी समझ गया है कि सब कुछ महत्वपूर्ण है चाहे कुछ भी हो।

शिकारी निराश हो गया। उन्होंने इससे एक सबक सीखा था कि किसी पर भी भरोसा करना धोखेबाजों को प्रोत्साहित करने के समान है।

सिखकिसी पर भी भरोसा करना धोखेबाजों को प्रोत्साहित करने के समान है।


15. एक दूसरे पर जलना बुरी बात है : Motivational Short Moral Stories in Hindi

 Motivational Short Moral Stories in Hindi

दो पंडित दक्षिण की वासना लेकर एक शेटजी के घर गए। विद्वान समजुन शेतजी ने उनका खूब स्वागत किया। एक पंडित नहाने चला गया। उस समय शेटजी ने एक अन्य पंडित से कहा, महाराज, आपका साथी एक महान विद्वान लगता है। जहां पंडित जी के मन में ऐसी उदारता थी कि दूसरों की प्रशंसा सुननी चाहिए। उसने सिर झुकाकर कहा, “विद्वान उसके पास खड़ा नहीं है, वह बेलोबा है। शेटजी ने गपशप की।

जब पंडित शाम को स्नान करने बैठे तो शेतजी ने पहले पंडित से कहा, “महाराज, आपका साथी बहुत विद्वान लगता है।” दूरदर्शी पंडित ने अपने मन में बुरे विचार दिखाते हुए कहा, “ओह, विद्वान – विद्वान कुछ भी नहीं है, वह सिर्फ एक खाली गधा है।”

भोजन के समय वे एक के आगे घास और दूसरे के सामने चूरा लगाते हैं। यह देखकर पंडित जी क्रोधित हो गए और बोले, शेटजी, हमारा ऐसा अपमान, ऐसी क्रूरता।

शेटजी ने हाथ जोड़कर कहा, “तुम एक दूसरे को बैल और गधा समझते हो, इसलिए मैंने बैल और गधे को तुम्हारे सामने रखा है कि सही खाने के लिए। तुम मुझे बताओ कि उसके साथ क्या गलत है। मुझे लगा कि तुम विद्वान हो। लेकिन असली कहानी आपने खुद बताई।

शेटजी की बातें सुनकर पंडित जी शर्मिंदा हो गए और उन्हें बहुत खेद हुआ। जो अपने साथी को नहीं देख सकता वह बड़ा कैसे हो सकता है? अपनी खुद की महानता दिखाने के लिए अपने साथी का मान बढ़ाना बहुत जरूरी है। देखने वाले की भी हालत उनके जैसी ही थी।

सिखकभी भी एक-दूसरे से नहीं जलना चाहिए।


16. कर्ण की उदारता : Short Moral Stories in Hindi For Class 3

Short Moral Stories in Hindi For Class 3

एक बार भगवान कृष्ण पांडवों से बात कर रहे थे। परमेश्वर उस समय उसकी उदारता को याद कर रहे थे। अर्जुन को यह कहानी अच्छी नहीं लगी। अर्जुन ने कहा, “श्यामसुंदर, हमारे बड़े भाई धर्मराज से बढ़कर कोई उदार नहीं है। तुम उसके सामने तुरही की स्तुति क्यों कर रहे हो?

भगवान ने कहा, मैं इसे फिर कभी आपको समझाऊंगा।

कुछ दिनों बाद, अर्जुन श्रीकृष्ण धर्मराज के साथ एक ब्राह्मण के वेश में युधिष्ठिर के महल में जाता है। उसने धर्मराज से कहा कि उसे सूखे चंदन का टीला चाहिए। क्या आप कृपया पूछेंगे? उस दिन तेज बारिश हो रही थी। कहीं से लकड़ी लाएंगे तो वह गीली हो जाएगी। राजा युधिष्ठिर ने राज्य में सेवकों को भेजा। लेकिन संयोग यह रहा कि चंदन की सूखी लकड़ी को आधे से ज्यादा नहीं मिले।

युधिष्ठिर ने हाथ जोड़कर कहा, आज सूखा चंदन नहीं मिलता। मैं तुम्हारे लिए और कुछ भी लाऊंगा जो तुम मांगोगे। भगवान ने कहा, “अगर हमें सूखा चंदन नहीं मिलता है, तो हमें और कुछ नहीं चाहिए।”

वहाँ से वह अर्जुन के साथ ब्राह्मण के वेश में भगवान कर्ण के घर गया। कर्ण ने उनका बड़े सम्मान के साथ स्वागत किया। भगवान ने कहा, इस बार हमें सूखे चंदन का टीला चाहिए। कर्ण ने दो ब्राह्मणों को आसन पर बैठाया और उसे चूमा। फिर उसने एक धनुष लिया और उस पर तीर चलाया। कर्ण ने एक बाण से अपने सुंदर महल की कीमती खिड़कियां, दरवाजे, पलंग आदि तोड़ दिए और लकड़ी का ढेर बना दिया, सारी लकड़ी चंदन की थी। यह देखकर यहोवा ने कहा, “तू इन वस्तुओं को सूखी लकड़ी के लिए क्यों नष्ट कर रहे है?

कर्ण ने हाथ जोड़कर कहा, “इस बार बारिश हो रही है। बाहर से लकड़ी लाने में बहुत देर हो जाएगी। तुम्हें रुकना होगा। इन चीजों की मरम्मत तो की जा सकती है, लेकिन मेरे पास आया मेहमान निराश हो जाए या इससे पीड़ित हो जाए, तो मेरे मन से दुख दूर नहीं होगा।

भगवान ने कर्ण को सफल होने का आशीर्वाद दिया और वह अर्जुन के साथ चलने लगा। उन्होंने अर्जुन से कहा, “जब आपने अर्जुन को देखा, तो धर्मराज युधिष्ठिर के महल के दरवाजे और खिड़कियां चंदन के बने थे। चंदन की दूसरी वस्तु महल में थी। लेकिन जब चंदन मांगा गया तो धर्मराज ने इन वस्तुओं पर ध्यान नहीं दिया और न ही उन्हें याद किया।

लेकिन कर्ण ने उसका कीमती सामान तोड़ दिया और उसे लकड़ी दे दी। कर्ण स्वभाव से उदार हैं और धर्मराज युधिष्ठिर सोच समझकर अपने धर्म का पालन करते हैं। इसलिए मैं तुरही की स्तुति करता हूँ।

सिखअपने कर्त्तव्य के प्रति उदार स्वभाव रखना चाहिए।


17. एकता की शक्ति : Short Moral Stories in Hindi For Class 2

Short Moral Stories in Hindi For Class 2

हमारे देश में ऐसे कई कस्बे और गांव हैं जहां कम पेड़ हैं। अगर ऐसी जगह पर बैल कम हों और थोड़ा गोबर हो, तो खाना पकाने के लिए लकड़ी मिलना बहुत मुश्किल है।

एक छोटा सा बाजार था। उसके चारों ओर कुछ पेड़ थे। चूंकि बाजार में किसानों के घर नहीं थे, इसलिए मवेशियों की संख्या कम थी। स्थानीय लोगों को जलाऊ लकड़ी खरीदनी पड़ती थी। दो-तीन दिन की बारिश के बाद गांव से कोई भी बाजार में जलाऊ लकड़ी बेचने नहीं आया, इसलिए घर में खाना पकाने के लिए ईंधन नहीं था।

उस गाँव के दो भाई-बहन अपने घर के लिए सूखी लकड़ी लेने निकले थे। उसके पिता घर पर नहीं थे। बिना सूखी लकड़ी के उनकी मां कैसे खाना बनाएगी और बच्चों को क्या खिलाएंगी। दोनों बच्चे अपने पिता द्वारा लगाए गए आम के पेड़ पर गए। आम के पेड़ की एक बड़ी सूखी हुई शाखा नीचे लटकी हुई थी।

बड़े बेटे ने कहा, “हमें लकड़ी मिल गई, लेकिन हम इसे कैसे ले सकते हैं?” लेकिन यह बिलकुल भी नहीं है। सबसे बड़ा बेटा दस साल का और सबसे छोटा बेटा आठ साल का था। लकड़ी का इतना बड़ा टुकड़ा उनसे उठ नहीं सकता।

तभी छोटे लड़के ने सूखी लकड़ी के नीचे एक सफेद कीड़ा मरा हुआ देखा। कई चींटियाँ उसे ले जा रही थीं। छोटा लड़का चिल्लाया, “अरे भाई, यह क्या है?”

बड़े भाई ने कहा कि चींटीया कीड़े को ले जा रही है। छोटे भाई ने कहा, “इतनी छोटी चींटी कीट को कैसे ले जा सकती है?”

बड़े भाई ने कहा, “देखो कितनी चींटियाँ हैं, वे सब मिलकर कीड़ा ले जाते हैं।” कई आमों में मरे हुए सांप भी होते हैं। चींटियाँ धीरे-धीरे कीड़ा को हिला रही थीं। कीड़ा बड़ा था। कभी-कभी दस-पाँच चींटियाँ उसके नीचे दब जाती थीं। तुरंत एक अन्य चींटी ने कीड़े को बाहर निकाला और चींटियों को नीचे धकेल दिया। छोटी काली चींटियाँ थकती नहीं थीं। बच्चों ने देखा कि चींटियाँ चीटियाँ ले जा रही हैं।

छोटा लड़का खुश था। वह ताली बजाकर कूदने लगा। फिर वह आम की एक सूखी डाली पर बैठ गया और बोला, हम चीटियों की तरह कोशिश करेंगे। तुम जाओ और अपने दोस्तों को बुलाओ। मैं यहां बैठूंगा और सभी बच्चों को एक साथ ले जाऊंगा। ”

बड़ा बेटा बाजार गया और अपने दोस्तों को बुलाया। सभी बच्चों ने पेड़ की टहनी को हिलाने की पूरी कोशिश की। फिर सभी ने टहनियों को आपस में बांध दिया और घर ले गए।

उसकी मां ने बच्चों निचे बैठने को कहा। उसने सभी को मिठाई दी और कहा, “बच्चों, एकता में ताकत है। आप सब मिलकर मेहनत करें और अगर आप सब साथ रहेंगे तो कोई आपको परेशान नहीं करेगा। साथ रहने से आप लोगों को खुश करेंगे और आपका काम सीधा होगा।

सिखएकता में जो शक्ति होती है उसे कोई पराजित नहीं कर सकता।


18. शेर और गरीब गुलाम : short story in hindi for kids

short story in hindi for kids

एक बार एक गुलाम था जिसका मालिक उसके प्रति क्रूर था। एक दिन, वह इसे और बर्दाश्त नहीं कर सका, इसलिए वह जंगल में भाग गया। रास्ते में उनका सामना एक शेर से हुआ जो अपने पंजे में काँटे के कारण चलने में असमर्थ था। भले ही वह डर गया था, दास ने हिम्मत जुटाई और शेर के पंजे में काँटा निकाल दिया।

जब शेर काँटे से मुक्त हुआ, तो वह दास को चोट पहुँचाए बिना जंगल में भाग गया। इसके तुरंत बाद, दास को उसके मालिक ने जंगल में पकड़ लिया। तब दास को उसके स्वामी ने सिंह की मांद में फेंक दिया।

जैसे ही उसने शेर को देखा, दास ने उसे उसी शेर के रूप में पहचाना, जिसे उसने पहले बचाया था। नतीजतन, दास बाल-बाल बच गया।

सिखआपके अच्छे कर्म हमेशा आपके पास वापस आएंगे। अच्छे कर्म करो और दूसरों पर दया करो, और ब्रह्मांड तुम्हें पुरस्कृत करेगा।


19. लोमड़ी और अंगूर : short story in hindi pdf

 short story in hindi pdf

एक बार की बात है, एक भूखी लोमड़ी एक दाख की बारी पर आई।

जैसे ही उसने रसदार, गोल अंगूरों को एक गुच्छा में लटका हुआ देखा, लोमड़ी डोल उठी।

उसने ऊंची छलांग लगाई लेकिन उनके लिए कभी नहीं पहुंचा। यह कहते हुए कि यह खट्टा होना चाहिए, वह चला गया।

उस रात खाने को कुछ न होने के कारण वह खाली पेट सो गया।

सिखजब कुछ हासिल करना बहुत मुश्किल होता है तो हम बहाने बनाते हैं। इसके लिए कड़ी मेहनत करने के बजाय, हम खुद से कहते हैं कि यह शायद उतना अच्छा नहीं है।


20. एक गधा : very short story

very short story hindi

एक बार जोजो नाम का एक गधा था जो बहुत बूढ़ा था। जोजो अब अपने मालिक के लिए काम नहीं कर सकता था इसलिए उसने उसे मारने का फैसला किया। उसने एक गड्ढा खोदा और जोजो को उसमें धकेल दिया।

गुरु ने गड्ढे को मिट्टी से भरना शुरू कर दिया ताकि वह जोजो को दफना सके। दूसरी ओर जोजो ने अपनी पीठ से सारी मिट्टी को हिलाया और अपने पैरों पर जमा हुई गंदगी पर चढ़ गया। धीरे-धीरे गड्ढे के अंदर कीचड़ का पहाड़ था और जोजो मिट्टी को झाड़ कर उस पर चढ़ रहा था।

जल्द ही वह गड्ढे से बाहर आ गया और अपने मालिक के सामने आ गया। उसके मालिक ने गधे को जीवित देखा और डर गया कि गधा बदला लेने की कोशिश करेगा। उसने अपना फावड़ा फेंक दिया और अपने खेत की ओर जितनी तेजी से भाग सकता था भागा।

अपने मालिक को डर के मारे भागते देख जोजो हंस पड़ा और जंगल के रसीले फल और सब्जियां खाकर अपना जीवन व्यतीत करने लगा।

सिखमन की उपस्थिति आपके जीवन को बचा सकती है।


Related Articles

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Articles