Email में CC और BCC क्या होता है ? ईमेल में CC और BCC का उपयोग कैसे करे ?

क्या आपके भी मन में यह सवाल बार बार आता है की Email में CC और BCC क्या होता है ? अगर हाँ तो आप बिलकुल सही जगह पर आये है क्योंकि आज के इस आर्टिकल में आप जानेंगे की Email में CC और BCC का मतलब क्या होता है , Email में CC और BCC का उपयोग कैसे करे और CC और BCC में क्या अंतर होता है .

दोस्तों इंटरनेट की इस दुनिया में ईमेल का उपयोग आजकल कौन नहीं करता , जब भी हम कोई नया स्मार्टफोन खरीदते है उस वक़्त हमे नया ईमेल बनाना ही पड़ता है या फिर हमारे पुराने email id को login करना पड़ता है क्योंकि बिना Email के किसी भी स्मार्टफोन में हम Playstore नहीं चला सकते है और प्लेस्टोर के बिना हम अपने फ़ोन में अपने पसंदीदा एप्प्स इनस्टॉल नहीं कर पाते है.

कई बार हम जब किसी को ईमेल सेंड करने जाते है तो हमे वहा पर अलग अलग options दिखाई देते है खासतौर पर CC और BCC . ज्यादातर Users को इसके बारे में पता नहीं होता है की दरअसल यह CC और BCC क्या होता है इसलिए मैंने सोचा की आज के इस आर्टिकल के माध्यम से आपको CC और BCC के बारे में बता दूँ .

अगर आप Email में CC और BCC क्या होता है ? यह जानना चाहते है तो इस आर्टिकल के साथ अंत तक बने रहिये क्योंकि इसमें आपको ऐसी ऐसी बातों का पता लगेगा जिसके बारे में शायद आपको नहीं पता होगा तो चलिए शुरू करते हमारा आज का आर्टिकल .

Email में CC और BCC क्या होता है ?

cc and bcc explain in hindi

ईमेल में CC का मतलब होता है Carbon Copy , जबकि BCC मतलब होता है Blind Carbon Copy. यह दोनों भी ईमेल के काफी महत्वपूर्ण घटक है . चलिए विस्तार से जानते है CC और BCC के बारे में .

ईमेल में CC क्या होता है (What is CC in Email)

CC का मतलब होता है Carbon Copy . इसका इस्तेमाल तब किया जाता है जब किसी यूजर को एक साथ २ या २ से अधिक लोगों को ऐसा ईमेल भेजना होता है जो सबको तो मिले लेकिन साथ में बाकि के सभी लोगों को पता चले की किस किस के पास वह ईमेल भेजी गयी है . इसलिए CC का ज्यादातर उपयोग बड़ी बड़ी कंपनियों में किया जाता है या फिर ऐसी जगहों पर इसका उपयोग होता है जहा पर लोग एकसाथ मिलकर टीम में काम करते है .

इसके नाम से ही आप समझ सकते है की इसका काम क्या है CC का नाम होता “कार्बन कॉपी” मतलब एक ही ईमेल की कॉपी आप कितने भी लोगों को एक साथ भेज सकते है , इसलिए इसका उपयोग तभी करते है जब ईमेल की कॉपी एकसाथ कई लोगों को भेजनी होती है और सभी को पता चले की किसी-किस को ईमेल मिली है .

CC को आप इस उदहारण से आसानी से समझ सकते है (What is CC in Email Example in Hindi) –

मान लीजिये एक कंपनी में 4 कर्मचारी काम करते है जिनका नाम है A , B , C , D और उनका एक बॉस है , अब lockdown की वजह से सभी कर्मचारी A , B , C , D अपने अपने घरों से Online काम कर रहे है ऐसे में इनके बॉस को इन चारों कर्मचारियों को एक महत्वपूर्ण ईमेल भेजना है ..

एक ऐसा ईमेल जो सभी चारों कर्मचारियों को तो मिलेगा ही साथ में हर एक कर्मचारी को यह भी पता लगना चाहिए की बॉस ने अन्य कर्मचारियों को भी यह ईमेल भेजा है मतलब कर्मचारी A को पता चलेगा की B , C , D भी यह ईमेल गया है , कर्मचारी B को भी पता चलेगा की यह ईमेल A ,C , D को मिला है इसी प्रकार सभी को पता चलेगा की यह ईमेल सबको मिला है अगर इस प्रकार का ईमेल बॉस अपने कर्मचारियों को भेजना चाहे तब वो ईमेल में दिए गए CC का उपयोग करेगा .

ईमेल में BCC क्या होता है (What is BCC in Email)

BCC का मतलब होता है Blind Carbon Copy , इसका इस्तेमाल तब किया जाता है जब कोई यूजर 2 से अधिक लोगों को ईमेल भेजता है लेकिन सभी से ईमेल लिस्ट को छुपाता , मतलब जब आप एक साथ कई लोगों को ईमेल भजते है लेकिन चाहते है की ईमेल लिस्ट का किसी को भी पता नहीं लगे यानि यह Same ईमेल किस किस को भेजा गया है इसे छुपाने के लिए ईमेल में BCC का उपयोग किया जाता है .

CC की तरह ही BCC का अर्थ भी इसी के नाम में छुपा हुआ है BCC का मतलब होता है “ब्लाइंड कार्बन कॉपी” मतलब आप इसमें एकसाथ कई लोगों को ईमेल भेज सकते है और सबसे ईमेल की कॉपी भी छुपा सकते है . जिन लोगों को आप BCC से ईमेल भेजेंगे उनको पता नहीं चलेगा की आपने किन किन लोगों को यह Same ईमेल भेजा है .

To , CC और BCC में क्या अंतर है ?

TOCCBCC
ईमेल में कांटेक्ट करने का यह प्राथमिक विकल्प है , आमतौर पर इसका उपयोग सबसे ज्यादा किया जाता है .ईमेल में कांटेक्ट (Secondary) करने का यह माध्यमिक विकल्प है .ईमेल में तृतीयक (Tertiary) करने का यह माध्यमिक विकल्प है .
व्यक्तिगत या एकाधिक संपर्कों को ईमेल करने के लिए उपयोग किया जाता हैव्यक्तिगत या एकाधिक संपर्कों को ईमेल करने के लिए इसका उपयोग होता है .व्यक्तिगत या एकाधिक संपर्कों को ईमेल करने के लिए इसका उपयोग होता है .
ईमेल एड्रेस सभी के द्वारा देखे जा सकते हैंईमेल एड्रेस सभी के द्वारा देखे जा सकते हैंईमेल एड्रेस केवल सेन्डर द्वारा देखे जा सकते हैं

अंतिम शब्द

दोस्तों उम्मीद है आपको यह जानकारी अच्छी लगी होगी जिसमे हमने देखा की Email में CC और BCC क्या होता है और ईमेल में CC और BCC का उपयोग कैसे करे ? अगर आपको यह लेख अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे और अगर आपके मन में CC और BCC के बारे कोई भी सवाल है तो हमे कमेंट करके जरूर बताएं .

Related Articles

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Articles