HomeINTERNETE-Learning क्या है और इसके फायदे एवं नुकसान

E-Learning क्या है और इसके फायदे एवं नुकसान

इंटरनेट की इस दुनिया में आपने E-Learning या ई-शिक्षा के बारे में जरूर सुना होगा लेकिन क्या आप जानते है की आखिर ऑनलाइन लर्निंग या E-Learning क्या है ? कई सारे ऐसे लोग है जिन्हें इसके बारे में पर्याप्त जानकारी नहीं है इसलिए आज के इस आर्टिकल में हम E-Learning के बारे में सरल हिंदी भाषा में विस्तार से जानेंगे इसलिए अगर आप भी ई-शिक्षा के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें .

आप Classroom Learning के बारे में बखूबी जानते होंगे क्योंकि यह बरसों से चली आ रही एक पारंपरिक शिक्षा पद्धति है जो आज भी चल रही है लेकिन E-Learning शिक्षा पद्धति इससे थोड़ी अलग होती है जिसमे डिजिटल उपकरणों की सहायता से शिक्षा दी जाती है .

इस आधुनिक युग में इंटरनेट और टेक्नोलॉजी में इतने नए नए अविष्कार हो रहे है की हर चीज अब हमारे कंप्यूटर/लैपटॉप और स्मार्टफोन में आ गयी है और E-Learning भी इसका एक उदहारण है जिसे आजके समय में हर कोई बढ़ावा दे रहा है .

कोरोना महामारी के कारण सभी लोगों को घर में बंद होना पड़ा और सभी school , collages , offices भी बंद हो गए और ऐसे में सभी लोगों को वर्क फ्रॉम होम यानी घर से ही अपने काम करने पड़े और स्टूडेंट्स के क्लासेस भी ऑनलाइन E-Learning पद्धति से हुए इस पुरे माहौल में एक बात सबके समझ में आ गयी की पढाई सिर्फ Classroom Learning से ही नहीं बल्कि E-Learning से भी की जा सकती है .

E-Learning और Classroom Learning में एक सबसे बड़ा अंतर है की Classroom Learning में ऑफलाइन क्लासरूम में पढ़ाया जाता है और E-Learning में Virtual तरीके से ऑनलाइन पढ़ाया जाता है .

लेकिन E-Learning और Classroom Learning इन दोनों में से बेहतर शिक्षा पद्धति कौनसी है और क्या E-Learning भविष्य में Classroom Learning की जगह ले सकता है ? इन सभी सवालों के ऊपर हम इस आर्टिकल में बात करने वाले है .

ई-लर्निंग क्या है | What is E-Learning In Hindi

E-Learning या इलेक्ट्रॉनिक शिक्षा का प्रत्यक्ष अर्थ होता है “Electronic Learning” जिसका मतलब ऐसी शिक्षा जो इंटरनेट से जुड़ें डिजिटल संसाधनों के माध्यमों जैसे कंप्यूटर , स्मार्टफोन , लैपटॉप से सीखी और सिखाई जाती है और इसे Online Education के रूप में भी जाना जाता है . इलेक्ट्रॉनिक शिक्षा (E-Learning) को विभिन्न रूपों से जाना जाता है जिसमे वेब लर्निंग , मोबाइल लर्निंग , क्लाउड मीटिंग , वेबिनार और वर्चुअल क्लासरूम जैसे कई नाम शामिल है .

E-learning शब्द का प्रयोग सबसे पहले वर्ष 1999 में Los Angeles के एक सेमिनार में किया गया था जब इंटरनेट का विस्तार भी बहुत कम था और इंटरनेट इस्तेमाल करने वालों की संख्या भी काफी कम थी जिस कारण उस समय में इ-लर्निंग को ज्यादा बढ़ावा नहीं मिला .

आज के समय में E-Learning एक काफी प्रसिद्ध online learning system मानी जाती है क्योंकि E-Learning इस्तेमाल करने के कई सारे फायदे होते है इसका सबसे बड़ा फायदा यह होता है की E-learning में विद्यार्थी और शिक्षक दुनिया के किसी भी जगह और किसी भी समय Online Class से जुड़ सकते है इसीलिए दुनियाभर में कई schools , collages , universities इलेक्ट्रॉनिक शिक्षा को बढ़ावा दे रही है .

ई-लर्निंग के प्रकार (Types Of E-Learning)

E-Learning के मुख्य रूप से २ प्रकार होते है Synchronous और Asynchronous तो चलिए विस्तार से समझते है इ लर्निंग के इन दोनों प्रकारों को .

1. Synchronous E-learning

यह एक real-time learning मेथड है जिसमे टीचर और स्टूडेंट्स एक मीटिंग में कनेक्ट होते है और उनमे Two Way Communication होता है मतलब Synchronous ई-लर्निंग में लाइव क्लासरूम जैसा माहौल होता है जिसमे टीचर और स्टूडेंट्स आपस में बातचीत कर सकते है .

सिंक्रोनस इ-लर्निंग को असिंक्रोनोस इ-लर्निंग से बेहतर माना जाता है क्योंकि इसमें एक वर्चुअल क्लासरूम जैसा माहौल रहता है जिसमे कई सारे लोग ऑनलाइन आपस में जुड़े होते है इसलिए यहाँ पर किसी भी विषय के doubt आसानी से clear हो जाते है क्योंकि यहाँ पर आप टीचर से तुरंत अपने सवाल पूछ सकते है .

Synchronous E-learning में निम्नलिखित ऑनलाइन माध्यमों से जुड़ा जाता है –

  • वर्चुअल क्लासरूम
  • ऑडियो कॉन्फ़्रेंसिंग
  • वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग
  • Chat (चाट)
  • वेबिनार
  • एप्लीकेशन शेयरिंग
  • मैसजिंग इंस्टैंटली

2. Asynchronous E-learning

- Advertisement -

Asynchronous यह एक real-time e-learning वाला मेथड नहीं है मतलब इसमें स्टूडेंट और टीचर के बिच में कोई भी इंटरेक्शन नहीं होता है मतलब की learners और instructor किसी भी ऑनलाइन माध्यम से आपस में जुड़े नहीं होते है इसलिए Asynchronous E-learning मेथड में सिखने वाले को खुद के दम पर यानि सेल्फ स्टडी करनी होती है .

यह एक One Way Communication होता है जिसमे पढ़ने वाला वेब आधारित प्रशिक्षण (web-based-training) से चीजें सीखता है जैसे –

  • ऑनलाइन कोर्स
  • ब्लॉग्स/वेबसाइट
  • इ-बुक्स
  • ऑनलाइन फ़ोरम्स
  • वीडियो टुटोरिअल्स

ई-लर्निंग के फायदे और नुकसान

E-learning के मुकाबले Classroom में बैठकर सीखना अधिक व्यक्तिगत और इंटरैक्टिव होता है लेकिन अगर Classroom Learning की तुलना E-learning से की जाएं तो E-learning काफी सारे फायदे होते है तो चलिए अब जानते है E-learning के फायदे और नुकसानों के बारे में .

ई-लर्निंग के फायदे (Advantages Of E-Learning)

  • ई-लर्निंग का सबसे बड़ा फायदा तो यही है की आप अपने टाइम के हिसाब से किसी भी लोकेशन से पढ़ सकते है .
  • अगर किसी को क्लासरूम जाकर पढ़ने में दिक्कत आती है या कोई समस्या है तो वे इ-लर्निंग से घर बैठे पढ़ सकते है .
  • ऑनलाइन पढाई करने में खर्चा काफी कम लगता है क्योंकि यहापर आपका बुक्स , नोटबुक्स , पेन और बाकि एजुकेशनल मटेरियल का खर्चा बच जाता है .
  • अगर आपकी Classroom में कोई क्लास छूट जाती है तो आप उसे दुबारा नहीं पढ़ सकते है लेकिन इ लर्निंग में अगर आपकी क्लास छूटती है तो आप उसे बाद में फिर से देख सकते है क्योंकि इ लर्निंग में क्लास रिकॉर्ड किया जा सकता है .
  • ई-लर्निंग में कोई भी Concept आसानी से समझ आती है क्योंकि ऑनलाइन क्लास में सिर्फ ब्लैकबोर्ड पर नहीं पढ़ाया जाता यहाँ पर एजुकेशनल फिल्म्स , ग्राफिकल प्रेजेंटेशन जैसी चीजों से कोई भी Concept समझने में आसानी होती है .
  • ई-लर्निंग और ऑनलाइन एजुकेशन स्वतंत्र शिक्षा यानि सेल्फ एजुकेशन को बढ़ावा देता है जो एक अच्छी बात होती है .

ई-लर्निंग के नुकसान (Disadvantages Of E-Learning)

  • ई-लर्निंग का सबसे बड़ा नुकसान उन विद्यार्थिओं को होता है जो अपनी पढाई को लेकर गंभीर नहीं होते है क्योंकि ऑनलाइन लर्निंग में Self Depend रहना पड़ता है और सेल्फ स्टडी करना होता है .
  • ई-लर्निंग में टीचर और स्टूडेंट्स का इंटरेक्शन इतना खास नहीं होता है जितना क्लासरूम में होता है .
  • ऑनलाइन एजुकेशन में Practical चीजें सीखना मुश्किल होता है .
  • ई-लर्निंग से पढाई करने के लिए Wifi , Internet , Laptop/Computer जैसी चीजों की जरुरत होती है .

दोस्तों उम्मीद है आपको E-Learning के बारे में यह जानकारी आपको अच्छी लगी होगी अगर आपको E-Learning क्या है और इसके फायदे एवं नुकसान यह आर्टिकल अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे और अगर आपके मन में E-Learning से रिलेटेड कोई सवाल है तो हमे कमेंन्ट करके जरूर पूछें .

- Advertisement -
Rahul Rajputhttps://techyatri.com
Rahul Rajput is the Author & Founder of TechYatri.com . He loves to share his technical knowledge with people , He is also passionate about Blogging & Digital Marketing .

3 COMMENTS

  1. वास्तव में अच्छा ब्लॉग लेख और सहायक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

यह भी पढ़े