HomeCOMPUTERएन्क्रिप्शन क्या है ? | Encryption In Hindi

एन्क्रिप्शन क्या है ? | Encryption In Hindi

इंटरनेट और कंप्यूटर के क्षेत्र में आपने एन्क्रिप्शन (Encryption) के बारे कभी न कभी जरूर सुना होगा लेकिन क्या आप जानते है एन्क्रिप्शन क्या है (What Is Encryption In Hindi) और यह कैसे काम करता है ? अगर आप Encryption के बारे में पूरी जानकारी जानना चाहते है तो आप बिलकुल सही आर्टिकल पढ़ रहे है.

Encryption वास्तव में साइबर सुरक्षा से जुड़ा हुआ एक टेक्निकल टर्म है जिसका उपयोग डाटा को सुरक्षित रखने के लिए किया जाता है और वर्त्तमान समय में एन्क्रिप्शन का उपयोग कंप्यूटर क्षेत्र में काफी ज्यादा किया जाता है क्योंकि Encryption एक काफी सुरक्षित और मजबूत सिक्योरिटी टेक्निक है .

दोस्तों वर्तमान समय में लगबघ हर क्षेत्र में इंटरनेट का इस्तेमाल किया जाता है चाहे बैंकिंग हो या कोई सरकारी काम सभी जगह पर आज के समय में इंटरनेट और कंप्यूटर का उपयोग किया जाता है लेकिन इंटरनेट पर डाटा चोरी होने की या हैक होने की हमेशा संभावनाएं बानी रहती है इसलिए डाटा को एन्क्रिप्शन तकनीक से एन्क्रिप्ट किया जाता है .

एन्क्रिप्शन तकनीक से डाटा को सुरक्षित रखा जाता है , यह काफी सुरक्षित तकनीक है जिससे डाटा को अटैकर्स और चोरी होने से बचाया जाता है तो चलिए जानते है एन्क्रिप्शन क्या होता है और Encryption कैसे काम करता है .

एन्क्रिप्शन क्या है (What Is Encryption In Hindi)

एन्क्रिप्शन एक एन्कोडिंग की प्रक्रिया होती है जिसमे डाटा को विशेष कोड में बदल दिया जाता है जिससे उस डाटा को कोई पढ़ या समझ न पाए , एन्क्रिप्शन तकनीक में मूल डाटा को प्लेनटेक्स्ट (Plain Text) कहा जाता है और उसे जब परिवर्तित कर दिया जाता तब उसे सिफर्टेक्स (Cipher Text) कहा जाता है .

आसान शब्दों में समझे तो डाटा को प्लेनटेक्स्ट से परिवर्तित करके सिफर्टेक्स में कन्वर्ट करने की प्रक्रिया को एन्क्रिप्शन कहते है , एन्क्रिप्शन तकनीक का उपयोग डाटा को सुरक्षित रखने के लिए किया जाता है .

Encryption In Hindi

Encryption तकनीक का उपयोग करके डाटा को अनधिकृत (Unauthorized) व्यक्ति से बचाने के लिए किया जाता है जिसमे डाटा को Unreadable Format में बदल दिया जाता है Unreadable Format फॉर्मेट मतलब मूल डाटा को इस प्रकार बदल दिया जाता है जिसे कोई भी समझ नहीं सकता है .

एन्क्रिप्ट किया हुआ डाटा सिर्फ वही व्यक्ति एक्सेस कर सकता है जिसके पास वो एन्क्रिप्टेड डाटा को एक्सेस करने का पासवर्ड या Decryption Key है . मतलब Encrypted Data सिर्फ अधिकृत (authorized) व्यक्ति ही एक्सेस कर सकता है .

इसे एक उदाहरण से समझिये – मान लीजिये आपको अपने दोस्त को इंटरनेट से कोई पर्सनल मैसेज भेजना है और आप चाहते है वो मैसेज सुरक्षित तरीके से आपके दोस्त तक पोहोच जाए और बाकि कोई भी व्यक्ति उस मैसेज को पढ़ या समझ न पाए तो आप उस मैसेज को Encryption Key से Encrypt कर देंगे और जब वो मैसेज आपके दोस्त तक पोहोच जायेगा तब आपका दोस्त उसे Decryption Key से Decrypt करेगा . इस प्रोसेस में Decryption Key सिर्फ आपके दोस्त को पता होगी और उसके अलावा आपके मैसेज को कोई भी अन्य व्यक्ति समझ या पढ़ नहीं सकता .

Encryption Meaning In Hindi

दोस्तों आपके भी मन में यह सवाल आया होगा की Encryption का हिंदी मतलब क्या होता है या Encryption को हिंदी में क्या कहते है तो दोस्तों आपको बता दूँ की Encryption का हिंदी मतलब “कूट लेखन” होता है , कूट लेखन मतलब किसी डाटा को ऐसे शब्दों में लिखना जिसे कोई भी समझ न सके . आसान शब्दों में बताऊँ तो Encryption का हिंदी मतलब किसी डाटा को कोड भाषा में परिवर्तित करना . Encryption को हिंदी में गुप्तलेखन या गूढ़लेखन भी कहा जाता है .

एन्क्रिप्शन से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण शब्द

  • Encrypt : किसी जानकारी को ऐसे कोड में बदल देना जिसे कोई पढ़ या समझ न पाए इस प्रक्रिया को ही एन्क्रिप्ट (Encrypt) कहा जाता है .
  • Decrypt : एन्क्रिप्ट करके जिस जानकारी को कोड में बदल दिया जाता है उसे फिर से सामान्य रूप में परिवर्तित करने को डिक्रिप्ट (Decrypt) कहा जाता है .
  • Plain Text : सामान्य जानकारी जिसे पढ़ा और समझा जा सकता है उसे Plain Text कहा जाता है .
  • Cipher Text : जब सामान्य जानकारी को एन्क्रिप्ट करके Code में परिवर्तित कर दिया जाता है तब उस जानकारी को Cipher Text कहा जाता है यह एक ऐसा Text होता है जिसे कोई भी पढ़ या समझ नहीं सकता है .

एन्क्रिप्शन के प्रकार | Types Of Encryption

एन्क्रिप्शन (Encryption) के मुख्य रूप से २ प्रकार होते है :

  1. Symmetric Encryption
  2. Asymmetric Encryption

चलिए Symmetric Encryption और Asymmetric Encryption के बारे में विस्तार से जानते है .

Symmetric Encryption

सिमेट्रिक एन्क्रिप्शन (Symmetric Encryption) यह एन्क्रिप्शन का पहला प्रकार है जिसमे डाटा एन्क्रिप्ट करने के बाद डाटा भेजने वाले व्यक्ति को Encryption Key डाटा रिसीव करने वाले व्यक्ति के साथ शेयर करनी पड़ती है क्योंकि Symmetric Encryption में डाटा को एन्क्रिप्ट और डिक्रिप्ट करने एक ही Key का उपयोग किया जाता है इसलिए सिमेट्रिक एन्क्रिप्शन को Shared Encryption भी कहा जाता है .

Asymmetric Encryption

असिमेट्रिक एन्क्रिप्शन (Asymmetric Encryption) यह एन्क्रिप्शन का दूसरा प्रकार है जिसमे डाटा को एन्क्रिप्ट और डिक्रिप्ट करने के लिए दो अलग अलग Key’s का उपयोग किया जाता है मतलब असिमेट्रिक एन्क्रिप्शन में डाटा एन्क्रिप्शन एक लिए अलग Key और डाटा डिक्रिप्शन के लिए अलग Key होती है इसलिए असिमेट्रिक एन्क्रिप्शन का इस्तेमाल ज्यादातर पब्लिक नेटवर्क में डाटा शेयर करने के लिए होता है और इसीलिए इस प्रकार के एन्क्रिप्शन को Public Key Encryption भी कहा जाता है .

एन्क्रिप्शन के फायदे | Advantages Of Encryption

  • एन्क्रिप्शन द्वारा जानकारी की सुरक्षा बनाए रखने के मदद होती है
  • एन्क्रिप्शन द्वारा डाटा की गोपनीयता और अखंडता बनाये रखने में सहायता होती है
  • एन्क्रिप्शन तकनीक कंप्यूटर/लैपटॉप के साथ साथ विभिन्न उपकरणों को सपोर्ट करती है
  • Encryption से डाटा की Authenticity (सत्यता) बरक़रार रहती है
  • Encryption तकनीक से डाटा चोरी होने की संभावनाएं कम होती है
  • किसी वैयक्तिक जानकारी नेटवर्क की सहायता से एक जगह से दूसरी जगह ट्रांसफर करने के लिए एन्क्रिप्शन कारगर तकनीक है .

एन्क्रिप्शन का महत्व

- Advertisement -

इंटरनेट की इस दुनिया में डाटा शेयर करने के लिए और वैयक्तिक जानकारी या बातचीत करने के लिए भी आजकल लोग इंटरनेट का उपयोग काफी ज्यादा किया जाता है , आजके समय में इंटरनेट के माध्यम से काफी ज्यादा डाटा ट्रांसफर किया जाता है और इस डाटा को सुरक्षित रखना भी बहुत जरुरी होता है क्योंकि आज की इस डिजिटल दुनिया में साइबर अपराधी हमेशा लोगों की वैयक्तिक जानकारिया चुराने का प्रयास करते है .

कंप्यूटर और इंटरनेट के माध्यम से ट्रांसफर हो रहे इस डाटा को सुरक्षित रखने के लिए Encryption का उपयोग किया जाता है जिसमे जानकारी को एन्क्रिप्ट कर दिया जाता है जिससे कोई भी unauthorized व्यक्ति जानकारी को एक्सेस नहीं कर पाता है .

आज के इंटरनेट के युग में डाटा डाटा की सुरक्षा , गोपनीयता और अखंडता बनाये रखने में Encryption की बहुत बड़ी भूमिका है .

Encryption FAQ’s In Hindi

एन्क्रिप्शन क्या है ?

एन्क्रिप्शन एक एन्कोडिंग की प्रक्रिया होती है जिसमे डाटा को विशेष कोड में बदल दिया जाता है जिससे उस डाटा को कोई पढ़ या समझ न पाए .

एन्क्रिप्शन के कितने प्रकार है ?

एन्क्रिप्शन के मुख्य रूप से २ प्रकार है Symmetric Encryption और Asymmetric Encryption

एन्क्रिप्शन का इस्तेमाल क्यों किया जाता है

Encryption तकनीक का उपयोग करके डाटा को अनधिकृत (Unauthorized) व्यक्ति से बचाने के लिए किया जाता है .

एन्क्रिप्शन तकनीक कैसे काम करती है ?

एन्क्रिप्शन तकनीक में डाटा सुरक्षित करने के लिए डाटा को Unreadable Format में बदल दिया जाता है Unreadable Format फॉर्मेट मतलब मूल डाटा को इस प्रकार बदल दिया जाता है जिसे कोई भी समझ नहीं सकता है . सिर्फ Authorized व्यक्ति ही एन्क्रिप्शन किये गए डाटा को पढ़ सकता है .

एन्क्रिप्शन का क्या महत्व है ?

डाटा डाटा की सुरक्षा , गोपनीयता और अखंडता बनाये रखने में एन्क्रिप्शन काफी महत्वपूर्ण तकनीक है .

अंतिम शब्द

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हमे सीखा की एन्क्रिप्शन क्या है (Encryption In Hindi) अगर आपको एन्क्रिप्शन के बारे में यह जानकारी अच्छी लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे और अगर आपके मन में Encryption से सम्बंधित कोई भी सवाल है तो आप कमेंट कर के हमे पूछ सकते है .

अन्य पढ़ें –

- Advertisement -
Rahul Rajputhttps://techyatri.com
Rahul Rajput is the Author & Founder of TechYatri.com . He loves to share his technical knowledge with people , He is also passionate about Blogging & Digital Marketing .

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

यह भी पढ़े