नेटवर्क इंटरफ़ेस कार्ड क्या होता है ? What is NIC card in hindi

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम जानेंगे NIC card के बारे में , NIC card क्या होता है ? यह कैसे work करता है ? और इसके क्या क्या टाइप्स है . तो दोस्तों NIC का फुलफॉर्म होता है नेटवर्क इंटरफ़ेस कार्ड , इसका इस्तेमाल मूल रूप से हमारे Devices में Network प्रोवाइड करने के लिए किया जाता है .

network interface card को मार्केट में मुख्य रूप से NIC नाम से जाना जाता है लेकिन इसके अलावा भी NIC card को कई अन्य नामों से भी जाना जाता है जैसे , Local Area Network Card (LAN-Card) , Ethernet card , Ethernet Adaptor , Network Adaptor ,Ethernet Controller , Network controller और connection card etc . जैसे नामों से भी NIC card को जाना जाता है .

इसमें उलझन होने वाली कोई बात नहीं है यह सब नाम एक ही चीज के है . जिसे नेटवर्क इंटरफ़ेस कार्ड कहा जाता है जो की एक hardware पार्ट है जिसकी मदद से हमारी devices में नेटवर्क प्रदान किया जाता है .

नेटवर्क इंटरफ़ेस कार्ड क्या है ?

यदि आपको अपने डिवाइस में इंटरनेट एक्सेस करना है तो आपको सबसे पहले अपने डिवाइस को किसी नेटवर्क डिवाइस से कनेक्ट करना होता है . फिर आप वायर नेटवर्क से या वायरलेस नेटवर्क से अपना डिवाइस कनेक्ट कर सकते है .

किसी भी डिवाइस को डायरेक्ट नेटवर्क डिवाइस से जोड़ा नहीं जाता है . इसके लिए अपने डिवाइस में एक नेटवर्क डिवाइस की जरुरत होती है जो किसी भी वायर और वायरलेस नेटवर्क को sence कर सके उसे Network interface controller या नेटवर्क इंटरफ़ेस कार्ड (NIC) कहते है .

मूल रूप से देखा जाये तो नेटवर्क इंटरफ़ेस कार्ड का उपयोग आपके डिवाइस को किसी नेटवर्क से कनेक्ट करने के लिए किया जाता है .

इन्हे भी पढ़े

NIC Card की विशेषताएं

  • नेटवर्क इंटरफ़ेस कार्ड द्वारा किसी डिवाइस को नेटवर्क डिवाइस से जोड़ा जाता है
  • NIC कार्ड द्वारा वायर और वायरलेस दोनों प्रकार के कम्युनिकेशन किये जा सकते है
  • यह डाटा को डिजिटल सिग्नल्स में ट्रांसलेट करता है

नेटवर्क इंटरफ़ेस कार्ड के प्रकार

NIC के मुख्य रूप से 2 प्रकार होते है –

1. Internal Network Card

नेटवर्क इंटरफ़ेस कार्ड का पहला जो प्रकार है Internal Network Card इसे आप हिंदी में आतंरिक नेटवर्क कार्ड भी बोल सकते है . motherboard में पहले से ही इसके लिए एक स्लॉट होता है जहाँ से इसे insert किया जा सकता है .

Internal Network Card की सहायता से आपका सिस्टम इंटरनेट कनेक्शन के लिए रेडी हो जाता है लेकिन डिवाइस में नेटवर्क पोहोच प्रदान करने के लिए नेटवर्क केबल की आवश्यकता होती है .

इसमें भी 2 प्रकार होते है peripheral component interconnect (PCI) और industry standard architecture (ISA)

2. External Network Card

जिन सिस्टम्स में आतंरिक नेटवर्क कार्ड नहीं होता उसमे एक्सटर्नल नेटवर्क कार्ड का इस्तेमाल किया जाता है . आमतौर पर वायरलेस नेटवर्क एक्सेस करने के लिए External NIC card का इस्तेमाल किया जाता है .

इसमें सिस्टम को नेटवर्क से जोड़ने के लिए किसी भी केबल की आवश्यकता नहीं होती है . बाहर ट्रवेल करते वक़्त या जहाँपर वायर नेटवर्क सिस्टम से कनेक्ट नहीं हो सकता ऐसे हालात में External Network Card उपयोगी होता है .

कंप्यूटर / लैपटॉप में नेटवर्क इंटरफ़ेस कार्ड कहाँ स्थित होता है ?

मूल रूप से देखा जाए तो कंप्यूटर / लैपटॉप के USB पोर्ट के पास NIC कार्ड स्थित होता है . यह कार्ड साधारणतः motherboard में पहले से ही फिट होता है . अगर आपके कंप्यूटर में पहले से कोई Network Card नहीं है तो आप उसे खरीद कर अपने motherboard पर फिट कर सकते है .

आमतौर पर यह आपके लैपटॉप के साइड में लगा होता है , जहा से आप RJ45 कनेक्टर की सहायता से नेटवर्क केबल अपने डिवाइस को कनेक्ट कर इंटरनेट एक्सेस कर सकते है , यदि आपके लैपटॉप में आपको नेटवर्क पोर्ट नहीं दिखाई देता है ? तो घबराने वाली कोई बात नहीं है आपके लैपटॉप वायरलेस नेटवर्क हो सकता है , आपके लैपटॉप के USB पोर्ट से आप वायरलेस devices कनेक्ट कर सकते है .

नेटवर्क इंटरफ़ेस कार्ड के घटक (Components of NIC)

Driver – ड्राइवर एक कंप्यूटर सॉफ्टवेयर होता है जिसकी किसी भी हार्डवेयर पार्ट को चलाने के लिए आवश्यकता होती है , नेटवर्क कार्ड के लिए भी विशेष ड्राइवर होता है जो कंप्यूटर ऑपरेटिंग सिस्टम और NIC के बिच में data पास करता है .

MAC Address – हर कंप्यूटर सिस्टम का एक यूनिक मैक एड्रेस होता है जिसे फिजिकल नेटवर्क एड्रेस भी कहा जाता है . NIC कार्ड कंप्यूटर में इनस्टॉल करते वक़्त उसे यह मैक एड्रेस दिया जाता है जिसका उपयोग ईथरनेट पैकेट्स डिलीवर करने के लिए होता है .

Speed – नेटवर्क इंटरफ़ेस कार्ड में Mbps से स्पीड को नापा जाता है , Mbps के आधार पर ही इंटरनेट गति का अनुमान लगाया जाता है .

Connectivity LED अधिकांश नेटवर्क इंटरफ़ेस कार्ड में LED इंडिकेटर लगा होता है जिससे यूजर को हर स्थिति का पता चलने में आसानी हो . LED इंडिकेटर की सहायता से यूजर को नेटवर्क कनेक्ट हुआ है या नहीं , डाटा प्रसारित हो रहा है या नहीं जैसे सिग्नल्स आसानी से मिलते है .

दोस्तों यह थी नेटवर्क इंटरफ़ेस कार्ड ( NIC Card ) के बारे में कुछ उपयोगी जानकारी . उम्मीद है आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा होगा अगर आपका NIC कार्ड से लेकर कोई सवाल या सुझाव है तो कमेंट करके जरूर बताएं . धन्यवाद !

Rahul Patilhttp://techyatri.com
Rahul Patil is the Author & Founder of TechYatri.com. He is passionate about Blogging & Digital Marketing .

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

यह भी पढ़ें

सोशल मीडिया मार्केटिंग क्या है – पूरी जानकारी हिंदी में

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम देखने वाले है सोशल मीडिया मार्केटिंग क्या है. जैसा की आप सब जानते है...

सॉफ्टवेयर कैसे बनाये – जानिए पूरी जानकारी हिंदी में

आप अगर सॉफ्टवेयर इंजीनियर नहीं है फिर भी आपके मन में यह सवाल आता है की सॉफ्टवेयर कैसे बनाये तो यह आर्टिकल...

डिजिटल मार्केटिंग के फायदे – benefits of digital marketing in hindi

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम देखने वाले है डिजिटल मार्केटिंग के फायदे - benefits of digital marketing in hindi दोस्तों...

नई शिक्षा नीति 2020 क्या है – What is new education policy of india in hindi

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम देखने वाले है नई शिक्षा नीति 2020. दोस्तों जैसा की हम सब जानते है भारत...